राजिया रा सौरठा -4

कवि कृपाराम जी द्वारा लिखित नीति सम्बन्धी राजिया रा दोहा |
आवै नही इलोळ बोलण चालण री विवध |
टीटोड़यां रा टोळ, राजंहस री राजिया ||

महान व्यक्तियों के साथ रहने मात्र से ही साधारण व्यक्तियों में महानता नही आ सकती | जैसे राजहंसों का संसर्ग पाकर भी टिटहरियों का झुण्ड हंसो की सी बोल-चाल नहीं सीख पाता |

मणिधर विष अणमाव, मोटा नह धारे मगज |
बिच्छू पंछू वणाव, राखै सिर पर राजिया ||

बड़े व्यक्ति कभी अभिमान नही किया करते | सांप में बहुत अधिक जहर होता है, फ़िर भी उसे घमंड नही होता, जबकि बिच्छू कम जहर होने पर भी अपनी पूंछ को सिर पर ऊपर उठाये रखता है |

जग में दीठौ जोय, हेक प्रगट विवहार म्हें |
काम न मौटो कोय, रोटी मोटी राजिया ||

प्रत्यक्ष व्यवहार में हमने तो इस संसार में यही देखा है, कि काम बड़ा नही होता, रोटी बड़ी होती है | हे राजिया ! सारी भागदौड ही एक जीविका के लिए होती है

कहणी जाय निकांम, आछोड़ी आणी उकत |
दांमा लोभी दांम , रन्जै न वांता राजिया ||

अच्छी-अच्छी उक्तियों के साथ कही गई सभी बाते लोभी व्यक्तियों के लिए तो निरर्थक है | सच है, धन का लोभी धन से ही प्रसन्न होता है बातों से नही |

हुनर करो हजार,सैणप चतुराई सहत |
हेत कपट विवहार, रहै न छाना राजिया ||

चाहे हजारों तरह की चालाकी और चतुराई क्यों न की जाय , किंतु हे राजिया ! प्रेम और कपट का व्यवहार छिपा नही रहता |

लह पूजा गुण लार, नर आडम्बर सूं निपट |
सिव वन्दै संसार , राख लगायाँ राजिया ||

गुण के पीछे पूजा होती है , न कि आडंबर से | हे राजिया ! भस्मी लगाये रहने पर भी शिव की वंदना सारा संसार करता है |

लछमी कर हरि लार, हर नै दध दिधौ जहर |
आडम्बर इकधार, राखै सारा राजिया ||

समुद्र ने लक्ष्मी तो विष्णु को दी और जहर महादेव को दिया | सच है आडम्बर का विशेष लिहाज सभी रखते है |

सो मूरख संसार, कपट ञिण आगळ करै |
हरि सह ञांणणहार , रोम-रोम री राजिया ||

संसार में वे व्यक्ति मुर्ख है, जो भगवान के सामने कपट व्यवहार करते है, जो रोम-रोम की सब बाते जानने वाला होता है |

औरुं अकल उपाय, कर आछी भुंडी न कर |
जग सह चाल्यो जाय, रेला की ज्यूँ राजिया ||

और भी बुद्धि लगाकर भला करने का उपाय करो, किसी का बुरा मत करो | यह संसार तो पानी के रेले की तरह निरंतर बहता चला जा रहा है ( क्षणभंगुर जीवन की सार्थकता तो सत्कर्मो से ही है ) |

औसर पाय अनेक,भावै कर भुंडी भली |
अंत समै गत एक , राव रंक री राजिया ||

जीवन में अनेक अवसर पाकर मनुष्य चाहे तो भलाई करे,चाहे बुराई, किंतु हे राजिया ! अंत में तो सब की एक ही गति होती है मृत्यु, चाहे राजा हो या रंक |

करै न लोप, वन केहर उनमत वसै |
करै न सबळा कोप, रंकां ऊपर राजिया ||

जंगल में उन्मत शेर बसता है,किंतु वह लोमडियों का समूल नाश नही करता, क्योंकि हे राजिया !
शक्तिशाली कभी गरीब पर कोप नही करते |

पहली हुवै न पाव, कोड़ मणा जिण में करै |
सुरतर तणौ सुभाव, रंक न जाणै राजिया ||

जहाँ पहले पाव भर अनाज भी नही होता था,वहां करोड़ों मन कर देता है | कल्पवृक्ष के स्वभाव को रंक व्यक्ति नही जान सकता | (उदारता और दयालुता तो स्वाभाविक गुण होते है )|

पाल तणौ परचार, किधौ आगम कांम रौ |
वरंसतां घण वार , रुकै न पाणी राजिया ||

पानी को रोकने के लिए पाल बाँधने का कार्य तो अग्रिम ही लाभदायक होता है | घने बरसते पानी को रोकना सम्भव नही, यह कार्य तो पहले ही होना आवयश्क है |

कांम न आवै कोय, करम धरम लिखिया किया |
घालो हींग घसोय, रुका विचाळै राजिया ||

जिस पन्ने पर लिखी हुयी कर्म-धर्म की बाते यदि कुछ काम नही आती तो हे राजिया ! उस रुक्के में भले ही हींग की पुडिया बांधो, क्योकि वह तो रद्दी कागज के समान है |

भाड़ जोख झक भेक, वारज में भेळा वसै |
इसकी भंवरो एक,रस की जांणे राजिया ||

बड़ा मेंडक जोंक मछली और दादुर सभी जल में कमल के अन्दर ही रहते है,किंतु कमल के रस का महत्व तो केवल रसिक भ्रमर ही जनता है ( गुण को गुणग्राही और रस को रसज्ञ ही जान सकता है |

डा.शक्तिदान कविया द्वारा लिखित पुस्तक "राजिया रा सौरठा" से साभार |
Cont..........
अगली कड़ी जोधपुर यात्रा से लौटने के बाद |




Reblog this post [with Zemanta]
loading...
Share on Google Plus

About Gyan Darpan

Ratan Singh Shekhawat, Bhagatpura, Rajasthan.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

11 comments:

  1. सच के कितने करीब है ज्ञान से भरपूर है यह राजिया सरोठे

    ReplyDelete
  2. बहुत ज्ञानवर्द्धक हैं ...

    ReplyDelete
  3. kamal kee bate hain,hamare roj ke jeevan kee. narayan narayan

    ReplyDelete
  4. ज्ञानवर्धन चालू आहे. आभार.

    ReplyDelete
  5. sir,aapne google se custom domain liya hai,isme kitna kharch aaya,mai bhi ek custom domain lena chahta hoon,sir,aap meri please help kijiye.

    ReplyDelete
  6. बहुत बढिया प्रयास चल रहा है आपका.

    रामराम.

    ReplyDelete
  7. हमेशा की तरह से अति सुण्दर विचार.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  8. सराहनीय कार्य है आपका ! सादर शुभकामनायें !

    ReplyDelete