क्या आप भी बनाना चाहते है इन्डली व ब्लोगिरी जैसा ब्लॉग एग्रीगेटर ?

जब से सबका चहेता और लोकप्रिय हिंदी ब्लॉग एग्रीगेटर ब्लॉगवाणी की सांसे अटकी पड़ी है तब से हर किसी के मन में हलचल मच रही है कि काश हिंदी ब्लॉग एग्रीगेटर्स की संख्या ज्यादा हो ताकि कोई एक या दो एग्रीगेटर पर निर्भर ना रहना पड़े | ब्लॉग वाणी के बंद होने के बाद इन्डलीब्लोगगिरी नाम के दो एग्रीगेटर्स का अवतार भी हो चूका है | इससे पहले ब्लॉग प्रहरी नामक ब्लॉग एग्रीगेटर भी आ चूका था |
और अब हमारीवाणी के नाम से एक और ब्लॉग एग्रीगेटर आने की विज्ञापननुमा टिप्पणियाँ हर जगह पढने को मिल रही है | आज हिंदी ब्लॉगजगत में ब्लॉग एग्रीगेटर्स की आवश्यकता महसूस की जा रही है | आवश्यकता अविष्कार की जननी होती है | इसी ध्येय वाक्य के चलते ब्लॉग वाणी के बंद होते ही तीन तीन ब्लॉग एग्रीगेटर्स का अवतरण हो चूका व होने वाला है |
ब्लॉगवाणी की रूकावट के बाद आपके मन में भी उथल-पुथल मच रही होगी कि काश आप भी एक ब्लॉग एग्रीगेटर बना पाते | पर तकनीकी ज्ञान की कमी के चलते शायद आप मन मसोस कर बैठे है |
तो आईये आज इन्डलीब्लोगगिरी जैसा ब्लॉग एग्रीगेटर बिना ज्यादा तकनीकी ज्ञान के बनाने के तरीके पर चर्चा करते है | हालाँकि इन एग्रीगेटर्स में कुछ अल्प सुविधाओं के चलते ये चिट्ठाजगत ब्लॉगवाणी का सही मायने में विकल्प नहीं बन सकते | पर फिर भी विकल्प तो है ही |
१- सबसे पहले आप इस साईट पर जाकर एग्रीगेटर बनाने के लिए रेडीमेड वेब स्क्रिप्ट डाउनलोड करिए | जो बिल्कुल मुफ्त है | यह स्क्रिप्ट वैसे ही है काम आती है जैस वर्डप्रेस ,जुमला ,फोरम आदि की स्क्रिप्ट |
२- अब किसी सस्ते वेब होस्ट से एक होस्टिंग पैकेज लें | पैकेज में mysql database & php5 की सुविधा होनी चाहिए |
सस्ती वेब होस्टिंग आप way4hostDewlance नामक वेब होस्टिंग सेवा प्रदाताओं से ले सकते है
३-अब चर्चा करते है इस एग्रीगेटर स्क्रिप्ट की इंस्टालेशन विधि पर |
  1. Create a mysql database. If you are unfamiliar with how to create a mysql database, please contact your web host or search their support site. Please pay careful attention when creating a database and write down your database name, username, password, and host somewhere.
  2. Rename the /language/lang_english.conf.default file to lang_english.conf. Same instructions apply to any other language file that you might use that are located in the /languages directory.
  3. Rename the file bannedips.txt.default to bannedips.txt
  4. Rename the file settings.php.default to settings.php
  5. Rename the file local-antispam.txt.default to local-antispam.txt
  6. Rename the /libs/dbconnect.php.default file to dbconnect.php
  7. Upload the files to your server.
  8. CHMOD 755 the following folders, if they give you errors try 777.
    • /admin/backup/
    • /avatars/groups_uploaded/
    • /avatars/user_uploaded/
    • /cache/
    • /cache/admin_c/
    • /cache/templates_c/
    • /languages/ (And all of the files contained in this folder should be CHMOD 777)
  9. CHMOD 666 the following files
    • /libs/dbconnect.php
    • bannedips.txt
    • settings.php
    • local-antispam.txt
  10. Open /install/index.php in your web browser. If you are reading this document after you uploaded it to your server, click on the install link at the top of the page.
    • Select a language from the list.
    • Fill out your database name, username, password, host, and your desired table prefix.
    • Create an admin account. Please write down the login credentials for future reference.
    • Make sure there are no error messages!
  11. Delete your /install folder.
  12. CHMOD 644 libs/dbconnect.php
  13. Open /index.php
  14. Log in to the admin account using the credentials generated during the install process.
  15. Log in to the admin panel ( /admin ) and you will then be presented with information intruducing you to Pligg.
  16. Configure your Pligg site to your liking. Don't forget to use the Modify Language page to change your site's name.




स्क्रिप्ट अपलोड करने के लिए यदि आपके सीपेनल कण्ट्रोल पेनल है तो आप सीधे फाइल मेनेजर में जाकर स्क्रिप्ट की जिप फाइल अपलोड कर सकते है |
या आप स्क्रिप्ट अपलोड करने के लिए फाइलजिला का इस्तेमाल कर सकते है |
एग्रीगेटर बनने के बाद यदि आप टेम्पलेट बदलना चाहते है तो यहाँ से फ्री टेम्पलेट डाउनलोड कर सकते |
एग्रीगेटर में ज्यादा सुविधाएँ देने वाले मोडयुल्स भी आप यहाँ से फ्री में डाउनलोड कर इस्तेमाल कर सकते है |
यदि आप बढ़िया टेम्पलेट या ज्यादा सुविधाओं वाले मोड्यूल खरीद सकते है तो यहाँ चटका लगाकर खरीद सकते है |
यदि आपको तकनीकी ज्ञान बिल्कुल नहीं है फिर भी आप ऐसा ब्लॉग एग्रीगेटर बनाना चाहते है तो way4host या Dewlance से होस्टिंग पैकेज खरीद लीजिए इन दोनों वेब होस्ट साइट्स पर सालाना होस्टिंग पैकेज के साथ एग्रीगेटर बनाकर देने की सुविधा मुफ्त है |
डेमो देखने के लिए यहाँ चटका लगायें


मेरी शेखावाटी: बहुत काम की है ये रेगिस्तानी छिपकली -गोह
Rajput World: महाराव शेखा जी ,परिचय एवं व्यव्क्तित्व
Aloevera Product: मोटापा स्वास्थ्य और सुंदरता का दुश्मन
ताऊ डाट इन: ताऊ पहेली - 80 (fort of Janjira ,Murud city, Raigad ( M.S.)
loading...
Share on Google Plus

About Gyan Darpan

Ratan Singh Shekhawat, Bhagatpura, Rajasthan.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

28 comments:

  1. Bahut hi behatreen post... main khud blogvaani ka clone jaldi hi aapke saamne laane waala hoon .....

    bus aap logon ke sahyog ki jaroorat hogi

    ReplyDelete
  2. सुनील जी जल्दी कीजिए , हम आपके साथ है पूरा सहयोग करने के लिए |
    दरअसल ब्लोग्वानी जैसी स्क्रिप्ट से ही सही मायने में ब्लॉग एग्रीगेटर बनाया जा सकता है |

    ReplyDelete
  3. बहुत बढिया जानकारी रतनसिंग जी।
    पूरा खु्लासा ही करके रख दिया आपने।
    अब जितने चिट्ठे उतने एग्रीगेटर,स्वागत है।

    ReplyDelete
  4. @ ललित जी
    जो लोग दूसरों के बनाये एग्रीगेटरों में कमियां निकाल रहे थे ये पोस्ट ख़ास कर उनके लिए है | अब हमने बनाने का तरीका बता दिया है और बनाने में भी सहायता कर देंगे बस आलोचना करने वाले अपना बनाये तो सही |

    ReplyDelete
  5. क्‍यों न हम ऐसा करें
    सदा कुछ ऐसा लिखें
    पाठक स्‍वयं चला आए
    बिना बुलाए
    ब्‍लॉगर के लिए न लिखें
    लिखें सदा पाठक के लिए
    क्‍यों एग्रीगेटर हम बनाएं
    हमारी रचनाएं ही एग्रीगेटर क्‍यों न बन जाएं

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया जानकारी!
    --
    मैं डोमेन खरीदना चाहता हूँ!
    जिस पर मेरे सारे ब्लॉग्स आ सकें!
    क्या आप मेरी मदद करेंगे?

    ReplyDelete
  7. बहुत बढीया लेख।

    ये बहुत आसान स्क्रिप्ट है, मैने भी एक बार ईन्सटाल कर के ईसे अजमाया था।

    ढेर सारे फंसन हैं और आसानी से ईस्तेमाल मे आ जाता है

    ReplyDelete
  8. अच्छी जानकारी, सीखने के लिये समय देना होगा हमे।

    ReplyDelete
  9. बहुत अच्छी जानकारी!

    प्रयोग के तौर पर अपने एक सबडोमेन में इंस्टाल कर के देखते हैं।

    ReplyDelete
  10. बढिया जानकारी .. पर सबके लिए आसान भी नहीं !!

    ReplyDelete
  11. Rochak aur upyogi jaankari.shubkamnayen.

    ReplyDelete
  12. आपने काफी अच्छी जानकारी दी है, मैं aggregator बना ही रहा हूँ, बस द्रुपल का उपयोग कर रहा हूँ, अब इसको भी आजमा कर देखता हूँ...

    मैं भी 3-4 month के बाद एक aggregator launch करूंगा, अभी तो सिर्फ research कर रहा हूँ कि क्या-क्या bloggers चाहते हैं...

    और अभी learnbywatch.com का काम भी थोडा सा रह गया है....

    ReplyDelete
  13. प्रभु हिमधारा के नाम से बुक कराय है 535 रुप्ये पीएनबी खाते में भेजे जा रहे है invoice 36

    ReplyDelete
  14. yh kya bura hai? http://blogjaget.feedcluster.com
    aap bhee apna chitha jodein yahan.

    ReplyDelete
  15. बहुत बढिया जानकारी.....

    ReplyDelete
  16. मजा आ गया पढकर,लिखते रहिऐ


    सुप्रसिद्ध साहित्यकार और ब्लागर गिरीश पंकज जी का इंटरव्यू पढने के लिऐ यहाँ क्लिक करेँ >>। एक बार जरुर पढेँ

    ReplyDelete
  17. ना जी ना अभी इतनी फुर्सत कहा है | अभी तो यह सब झमेले का काम लगता है | भविष्य में इस पर विचार किया जा सकता है |

    ReplyDelete
  18. हम तो किराए के मकान में ही रह लेंगे जी. कौन पूरी बस्ती बसाए.

    ReplyDelete
  19. आशा है आने वाले दिनों में दो चार नए एग्रीगेटर अवश्य देखने को मिलेंगे।
    ................
    अपने ब्लॉग पर 8-10 विजि़टर्स हमेशा ऑनलाइन पाएँ।

    ReplyDelete
  20. फिलहाल तो चिठ्ठाजगत ही सर्वश्रेष्ठ लग रहा है. यदि अधिक एग्रीगेटर आते हैं तो हो सकता है कि ब्लोगवाणी से हो रही शिकायतों को दूर कर सकें.

    ReplyDelete
  21. "शेखावत जी" हमेशा की तरह एक दम झक्कास साथ बहुत ही उपयोगी पोस्ट |

    अभी ऐसा कुछ नहीं सोच रहा हूँ पर सब कुछ ठीक रहा तो "ब्लोगवाणी" की तरह "टेकवाणी" लाने की सोच रहा हूँ ..जहाँ सिर्फ तकनीकी चिट्ठे होंगें |

    सहयोग की आवश्यकता होगी |
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  22. how i share your this article on FACEBOOK

    ReplyDelete
  23. how i share this article on facebook

    ReplyDelete
  24. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete