ओजस्विता से भरपूर राजस्थानी दोहे हिंदी अनुवाद सहित

केसर निपजै न अठै,
नह हीरा निकलन्त |
सिर कटिया खग झालणा,
इण धरती उपजंत ||

यहाँ केसर नहीं निपजती,और न ही यहाँ हीरे निकलते है | वरन यहाँ तो सिर कटने के बाद भी तलवार चलाने वाले वीर उत्पन्न होते है |

धोरां घाट्यां ताल रो,
आंटीलो इतिहास |
गांव गांव थरमापली,
घर घर ल्यूनीडास ||

यहां के रेतिले टीलों,यहां की घाटियों और मैदानों का बडा ही गर्व पुरित इतिहास रहा है |यहां का प्रत्येक गांव थरमापल्ली जैसी प्रचण्ड युद्ध स्थली है तथा प्रत्येक घर मे ल्यूनीडास जैसा प्रचण्ड योद्धा जन्म चुका है |

सीतल गरम समीर इत,
नीचो,ऊँचो नीर |
रंगीला रजथान सूं ,
किम रुड़ो कस्मीर ? ||

राजस्थान वैविध्य युक्त है | यहाँ कभी ठंडी तो कभी गर्म हवा चलती है तथा पानी भी कहीं उथला तो कहीं गहरा है | ऐसे में रंगीले (हर ऋतू में सुहावने)राजस्थान से कश्मीर (जहाँ सिर्फ शीतल पवन और भूमि की उपरी सतह पर पानी है)किस प्रकार श्रेष्ट कहा जा सकता है ?

उबड़ खाबड़ अटपटी,
उपजै थोड़ी आय |
मोल मुलायाँ नह मिलै,
सिर साटे मिल जाय ||

उबड़-खाबड़,बेढंगी व कम उपजाऊ होते हुए भी यह धरती किसी मोल पर नहीं मिल सकती | परन्तु जो इसके अपने मस्तक का दान करते है उसको यह धरती अवश्य मिल जाती है | अर्थात राजस्थान की यह उबड़-खाबड़ अनुपजाऊ भूमि किसी मुद्रा से नहीं मिलती इसे पाने के लिए तो सिर कटवाने पड़ते है |

लेवण आवे लपकता,
सेवण माल हजार |
माथा देवण मूलकनै,
थोडा मानस त्यार ||

मुफ्त में धन लेने के लिए व धन का संग्रह करने के लिए तो हजारों लोग स्वत: ही दौड़ पड़ते है ,किन्तु देश की रक्षा के लिए अपना मस्तक देने वाले तो बिरले ही मनुष्य होते है |

माल उड़ाणा मौज सूं,
मांडै नह रण पग्ग |
माथा वे ही देवसी ,
जाँ दीधा अब लग्ग ||

मौज से माल उड़ाने (खाने) वाले लोग कभी रण क्षेत्र में कदम नहीं रखते | युद्ध क्षेत्र में मस्तक कटाने तो वे ही लोग जायेंगे जो अब तक युद्ध क्षेत्र में अपना बलिदान देते आये है |

दीधाँ भासण नह सरै,
कीधां सड़कां सोर |
सिर रण में भिड़ सूंपणों,
आ रण नीती और ||

सड़कों पर नारे लगाने व भाषण देने से कोई कार्य सिद्ध नहीं होता | युद्ध में भिड़ कर सिर देने की परम्परा तो शूरवीर ही निभाते है |

रण तज घव चांटो करै,
झेली झाटी एम ||
डाटी दे , धण सिर दियो,
काटी बेडी प्रेम ||

कायर पति रण-क्षेत्र से भाग खड़ा हुआ | इस पर उसकी वीर पत्नी ने उसे घर में न घुसने देने के लिए किवाड़ बंद कर दिए तथा पहले तो पति को कायरता के लिए धिक्कारा व बाद में अपना सिर काट कर पति को दे दिया | इस प्रकार उस कायर पति के साथ जो प्रेम की बेड़ियाँ पड़ी हुई थी उनको उस वीरांगना ने हमेशा के लिए काट दिया |

कटियाँ पहलां कोड सूं,
गाथ सुनी निज आय |
जिण विध कवि जतावियो,
उण विध कटियो जाय ||

वीर कल्ला रायमलोत ने युद्ध-क्षेत्र में जाने से पूर्व कवि से कहा कि -आप मेरे लिए युद्ध का पूर्व वर्णन करो ,ताकि मैं उसी अनुसार युद्ध कर सकूँ |
और उसने कवि द्वारा अपने लिए वर्णित शौर्य गाथा चाव से सुनी और जैसे कवि ने उसके लिए युद्ध कौशल का वर्णन किया था,उस शूरवीर ने उसी भाँती असि-धारा का आलिंगन करते हुए वीर-गति प्राप्त की |

नकली गढ़ दीधो नहीं ,
बिना घोर घमसाण |
सिर टूटयां बिन किम फिरै,
असली गढ़ पर आण ||

यहाँ के वीरों ने बिना घमासान युद्ध किए नकली गढ़ भी शत्रु को नहीं दिया , फिर बिना मस्तक कटाए असली गढ़ शत्रु को भला कैसे सौंप सकते है |

ये थे स्व.आयुवान सिंह शेखावत,हुडील द्वारा लिखे कुछ चुनिन्दा "हटीलो राजस्थान" नामक राजस्थानी दोहे | ओजस्विता से भरपूर राजस्थान के वीरों की वीरता व राजस्थान के जनजीवन ,मौसम,त्योंहारों,मेलों आदि का सुन्दर चित्रण किये ये ढेरों दोहे राजपूत वर्ल्ड पर यहाँ चटका लगाकर पढ़े जा सकते है |
loading...
Share on Google Plus

About Gyan Darpan

Ratan Singh Shekhawat, Bhagatpura, Rajasthan.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

15 comments:

  1. दोहे सही हैं, लेकिन अब सपूत पैदा होना बन्द हो गये... अन्यथा देश की यह दुर्गति न होती..

    ReplyDelete
  2. वाह, रतनसिंह जी, आपके पास गजब का खजाना है... इसमें से एक मोती मैं लेकर जा रहा हूं कुछ दिनों के लिए अपनी चैट प्रोफाइल पर चस्‍पा करने के लिए... :)

    ReplyDelete
  3. वाह भाई. तैने तो बड़ा सुन्दर अनुवाद दे दिया. आभार.

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर दोहे है | इनका तो पूरा ग्रन्थ ही बहुत बढ़िया है |

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छा प्रयास राजस्थानी दोहों की जानकारी मिली

    ReplyDelete
  6. बहुमूल्य दोहे……………बेहद खूबसूरत्।

    ReplyDelete
  7. दिल खुश कर दिया आपने इन दोहों से बेहद ही खूबसूरत हैं ये

    ReplyDelete
  8. शानदार दोहे. अर्थ बता के और भी अच्छा किया आपने, वरना कहीं कहीं भाषाई अज्ञान आड़े आ सकता था.

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर बहुमूल्य दोहे...

    ReplyDelete
  10. बहुत दिनों बाद कुछ ख़ास पढने को मिला. धन्यवाद्

    ReplyDelete
  11. मीरा के लिए कुछ इस तरह कहा जाता है- 'पुत्र न जाया, शिष्‍य न मूड़ा' ठीक-ठीक शब्‍द और पंक्ति किस तरह है, बता सकें तो आभारी रहूंगा.

    ReplyDelete