Job Search

Home » , » नींव मजबुत कराे, दरारें आ रही मीनाराे में ।

नींव मजबुत कराे, दरारें आ रही मीनाराे में ।

नींव मजबुत कराे,
दरारे आ रही मीनाराे में ।

समझदार काे नसीयत काफी है,
कुछ इसाराे में ।


सुई आम से, खास हाे गई,
अब गुण कहां तलवाराे में ।

अब लुट गया गुलस्ता,
भँवरे राे रहे बहारो में ।

बुजु्र्ग बेगाने हाे गये,
अपने ही परिवाराे में ।

घाेडे़ भी अड़ने लगे अब,
कमीया हाे गयी सवाराे में ।

अपने ही लूट रहे इज्जत,
अपनाे की बाजारो में ।

चुने में मिट्टी ज्यादा है,
तभी, छेद हाे गये दिवाराे में ।

हे मानुष क्याें जकड़ रहा,
राेज स्वार्थ की जन्जीराे में ।

गहराईयो में मिलते है हीरे,
क्या पडा़ किनाराे में ।

प्रेम सुख शांति चली गई कहां,
मन नहीं भरता प्याराे में ।

महेन्द्र अकेला हाे रहा मानव,
क्याें अपने ही परिवाराे में ।

कवि महेन्द्र राठौड़ "जाखली"
माेबाईल न.9928007861

4 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, "शेर ए पंजाब की १५२ वीं जयंती - ब्लॉग बुलेटिन “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  2. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन ’बीटिंग रिट्रीट 2017 - ब्लॉग बुलेटिन’ में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब ... चुटीला और इशारों में बहुत कुछ कहता हुआ ...

    ReplyDelete

Powered by Blogger.

Populars

Follow by Email