गूगल की कमजोरी

सर्च इंजन की दुनिया में अगर किसी की हकुमत चलती है, तो वो है गूगल | किसी बात को सर्च करने की बात हुई ,तो यु आर अल (यूनिफार्म रिसोर्स लोकेटर ) पर जो नाम सहज ही टाइप हो जाता है | लेकिन हमारा यह फेवरेट सर्च इंजन भी कुछ मामलों में
कमजोर है |
ज्यादा शब्दों में भटकाव : गूगल में सर्च करने पर दस से ज्यादा शब्द देने पर गूगल की सर्च कमजोर पड़ जाती है | वहीं मेटा सर्च इंजन में एक पुरा पैराग्राफ दल देने पर भी उनकी सर्च बेहतर रहती है |
पेज रेंक के अनुसार : गूगल की सर्च पेज रेंक के अनुसार होती है ,यह इस पर निर्भर करता है कि कितनी साईट विशिष्ठ पेज लिंक से होती है जिससे अकसर उस विषय से सम्बंधित वेबसाइट छुट जाती है |
स्पेसिफिक : गूगल चीजों को कैटेगरी के अनुसार सर्च नही करता | उदाहरण के तौर पर यदि आपको ट्री यानि पेड़ के बारे में सर्च करना है , तो गूगल पेड़ के साथ ,कंप्यूटर टेक्नोलोजी में इस्तेमाल होने वाले तकनीक शब्द को  भी  खोज देता है | वहीं गूगल मेटा सर्च इंजन भी नही है  

One Response to "गूगल की कमजोरी"

  1. Phagu Mahato   January 20, 2014 at 4:05 pm

    Thanks for posting about weakness of Google

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.