अजमेर के संस्थापक चौहान राजा अजयपाल का मंदिर

अजमेर के संस्थापक चौहान राजा अजयपाल का मंदिर

Raja Ajaypal Mandir, Chauhan Raja Ajaypal Temple अजमेर से लगभग 10 किलोमीटर दूर अरावली पर्वतमाला की सुरम्य घाटी में अजयसर गांव के पास “अजोगंध महादेव मंदिर” नामक प्राचीन मंदिर स्थित है| ऐतिहासिक अजयमेरु नगर (अजमेर) के संस्थापक चौहान राजा अजयपाल का स्मृति रूपी यह प्राचीन मंदिर जो अजोगंध महादेव मंदिर के नाम से जाना जाता […]

Ashapura Mata चौहान वंश की कुलदेवी आशापुरा माता

Ashapura Mata चौहान वंश की कुलदेवी आशापुरा माता

Ashapura Mata : नाडोल शहर (जिला पाली,राजस्थान) का नगर रक्षक लक्ष्मण हमेशा की तरह उस रात भी अपनी नियमित गश्त पर था। नगर की परिक्रमा करते करते लक्ष्मण प्यास बुझाने हेतु नगर के बाहर समीप ही बहने वाली भारमली नदी के तट पर जा पहुंचा। पानी पीने के बाद नदी किनारे बसी चरवाहों की बस्ती पर […]

कुलदेवी क्षेमंकरी (खीमज) माता

कुलदेवी क्षेमंकरी (खीमज) माता

Khimaj Mata Bhinmal क्षेमाचर्या क्षेमंकारी देवी जिसे स्थानीय भाषाओं में क्षेमज, खीमज, खींवज आदि नामों से भी पुकारा व जाना जाता है। इस देवी का प्रसिद्ध व प्राचीन मंदिर राजस्थान के भीनमाल कस्बे से लगभग तीन किलोमीटर भीनमाल खारा मार्ग पर स्थित एक डेढ़ सौ फुट ऊँची पहाड़ी की शीर्ष छोटी पर बना हुआ है। […]

प्राचीन गणेश्वर सभ्यता और चर्म रोग मुक्ति कुण्ड

प्राचीन गणेश्वर सभ्यता और  चर्म रोग मुक्ति कुण्ड

अपने गृह जिले सीकर की प्राचीन गणेश्वर सभ्यता (Ganeshwar Civilization) व गणेश्वर धाम (Ganeshwar Mahadev) के बारे में कई मित्रों से सुना था पर कभी वहां जाना नहीं हुआ. जबकि इस स्थान से छ: सात किलोमीटर दूर से बचपन से (सीकर-कोटपुतली-दिल्ली मार्ग) आना जाना रहता है, लेकिन इतने पास से गुजरने के बावजूद कभी यहाँ […]

राजस्थान में कैसे कैसे अनूठे मंदिर

१. सोरसन (बारां) का ब्रह्माणी माता का मंदिर- यहाँ देवी की पीठ का श्रृंगार होता है. पीठ की ही पूजा होती है ! २. चाकसू(जयपुर) का शीतला माता का मंदिर- खंडित मूर्ती की पूजा समान्यतया नहीं होती है, पर शीतला माता(चेचक की देवी) की पूजा खंडित रूप में होती है ! ३. बीकानेर का हेराम्ब […]

धीरे धीरे व्यवस्थित हो रहा है ओम बना धाम

धीरे धीरे व्यवस्थित हो रहा है ओम बना धाम

२५ अप्रेल १३ : शाम के चार बज रहे थे जोधपुर के कुड़ी भगतासनी हाऊसिंग बोर्ड कालोनी में किरायेदार से अपने खाली मकान की चाबियाँ लेने के बाद वापस शहर आना था, श्रीमती जी का स्वास्थ्य भी इतना ख़राब था कि वे भी बाइक पर सवारी करने की स्थिति में नहीं थी कि अचानक मेरे […]

भक्तों की मनसा पूर्ण करती – मनसा माता

भक्तों की मनसा पूर्ण करती – मनसा माता

उदयपुर (शेखावाटी) तहसील मुख्यालय से लगभग 25 किलोमीटर दूर खोह- गुड़ा ग्राम के पहाड़ो में मनसा माता Mansa mata पीठ स्थित है| मनसा देवी का मंदिर जीवन के तामझाम व कोलाहल से दूर प्रकृति माँ की गोद में “खोह“ से लगभग 5 किलोमीटर दूर पश्चिम दिशा में गगन चुंबी पर्वत श्रंखलाओं की गोद में विराजमान […]

जहाँ मन्नत मांगी जाती है मोटरसाईकिल से ! Om Bana Dham

लोगों की आस्था का केंद्र लोक देवता ओम बना धाम विविधताओं से भरे हमारे देश में देवताओं, इंसानों, पशुओं, पक्षियों व पेड़ों की पूजा अर्चना तो आम बात है लेकिन हम यहाँ एक ऐसे स्थान की चर्चा करने जा रहा है जहाँ इन्सान (Om Bana) की मौत के बाद उसकी पूजा के साथ ही साथ […]