जैताजी राठौड़

जैताजी राठौड़

Rao Jaita Ji Rathore History in Hindi, Jaitawat Rathore history महाराणा सा सपूत पाकर धन्य हुई यह वसुन्धरा। जयमल फता जैता कूपा झाला की यह परम्परा । जैता जी, पंचायण (अखैराजोत) के पुत्र थे। ये बगड़ी के ठाकुर थे। मण्डोर पर राव जोधा का अधिकार होने पर इनके बड़े भाई अखैराज ने तत्काल अपने अँगूठे […]