यदि राजपूतों का ये सामाजिक ढांचा बरक़रार रहता तो…

यदि राजपूतों का ये सामाजिक ढांचा बरक़रार रहता तो…

राजपूत कुलों का सामाजिक ढांचा कमोवेशी अपने पूर्वजों के संघीय ढांचे पर ही आधारित था। डा. वासुदेव शरण अग्रवाल ने अपने सुप्रसिद्ध ग्रंथ ‘पाणिनि कालीन भारत’ में लिखा है कि गणतंत्री कुलों में संघ रूप से शासन में भाग लेने का सभी को अधिकार था। पिता की मृत्यु पर उसके पुत्र का विधिवत अभिषेक होता […]