इस राजा के पक्ष में भूतों ने ये किया था !

इस राजा के पक्ष में भूतों ने ये किया था !

उस समय अहमदाबाद पर महमूद बेग का शासन था,उसके राज्य में पाटण नाम का एक नगर उसका सूबेदार हाथीखान | पाटण नगर के अधीन ही एक गांव का तेजसिंह तंवर नाम का एक राजपूत रहवासी | तेजसिंह नामी धाड़ायती,दूर तक धाड़े (डाके) डालता, उसके दल में तीन सौ हथियार बंद वीर राजपूत | उसके नाम […]

जैसी करनी वैसी भरनी

जैसी करनी वैसी भरनी

एक राजा के कुंवर की एक नाई से बहुत अच्छी मित्रता थी | कुंवर शिकार खेलते वक्त,खाते-पीते, सोते,उठते बैठते हर समय नाई को साथ रखते | नाई स्वभाव से बहुत कुटिल था और उसकी कुटिलता कुंवर के अलावा सब जानते थे | कुंवर के दुसरे मित्रों, घर के बड़े बुजुर्गों,राज्य के प्रधान सभी ने कुंवर […]

अक्ल की पौशाक

अक्ल की पौशाक

एक राजा के एक दीवान था जो बहुत बुद्धिमान और राज्य कार्य में प्रवीण था | राजा व प्रजा दोनों ही उस दीवान से बहुत खुश थे,पर होनी को कौन टाल सकता है एक दिन वे दीवानजी अचानक स्वर्ग सिधार गए | उनका बेटा उम्र में छोटा था सो राजा ने उनके परिवार के ही […]

देर है अंधेर नहीं

देर है अंधेर नहीं

बहुत पुरानी बात है एक गांव में एक किसान रहता था | खेत खलिहान,दुधारू पशु आदि सब कुछ था किसान के पास पर नि:संतान होने के कारण दोनों पति पत्नी दुखी थे | दोनों ने पुत्र प्राप्ति के लिए बहुत दान दिया,तीर्थ यात्राएं की,बहुत से देवताओं को धोखा,जगह जगह भोमियाजी व जुझार धोखे पर संतान […]

संगत का असर

एक बार एक बंजारा (व्यापारी)व बंजारी हाथी पर बैठे जंगल से चले जा रहे थे | बंजारे की बालद आगे जा चुकी थी | जंगल में एक गडरिया भेड़ बकरियां चरा रहा था उसे प्यास लगी तो वह पास ही बह रहे नाले पर गया और झुक कर पानी में मुंह डूबा कर ऐसे पानी […]

चतुर नार

एक राजा के एक कुंवर था जो बिलकुल अनपढ़ व मुर्ख था | मां-बाप के लाड प्यार ने उसे पूरी तरह बिगाड़ रखा था | ऊपर से उस बिगडैल कुंवर ने प्रण कर रखा था कि- “वह जिस लड़की के साथ शादी करेगा उसके सिर पर रोज दो जूते मारने के बाद ही खाना खायेगा […]

बत्तीस लक्षणी औरत

उदयपुर के महाराणा राजसिंह जी एक बार रूपनगढ़ पधारे हुए थे | एक दिन सुबह सुबह ही उन्होंने महल के झरोखे में खड़े होकर मूंछों पर हाथ फेरते हुए जोर से खंखारा किया | महल के ठीक नीचे एक महाजन का घर था उस महाजन की विधवा बाल पुत्र वधु अपने घर के आँगन में […]

1 3 4 5