राजा पुलकेशिन

राजा पुलकेशिन

पुलकेशी हित हर्ष चले थे, सबका हर्ष जगेगा रे। संघ ने शंख बजाया भैया सत्यजयी अब होगा रे॥ Raja Pulkeshin II, राजा पुलकेशिन द्वितीय वातापी (बादामी) के शासक थे। यह चातुक्य (सोलंकी) वंश से थे। अपने चाचा मंगलीश के मारे जाने पर वि.सं. ६६७ (ई.स. ६१०) में वातापी के राजा बने। सोलंकी वंश में इसके […]