रानी पद्मावती की कहानी के पात्रों का सच इतिहास की नजर में

रानी पद्मावती की कहानी के पात्रों का सच इतिहास की नजर में

रानी पद्मावती फिल्म पर विवाद के बाद वामपंथी इतिहासकार व इसी सोच वाली पत्रकार टीवी चैनलों पर बहस छेड़े है कि रानी पद्मावती, रावत रत्नसिंह, गोरा बादल, राघव चेतन काल्पनिक किरदार है, जायसी के दिमाग की उपज है| इसमें इन तत्वों को दो फायदे है, एक भंसाली से मोटा पैसा मिल जायेगा, दूसरा भारतीय संस्कृति […]

राणाजी नै राजकुंवार

राणाजी नै राजकुंवार

श्री सौभाग्य सिंह जी की कलम से…….. Story fo Maharaja Fateh Singh and Maharaja Bhopal Singh, Udaipur in Rajasthani Bhasha राजस्थान में मेवाड़ रा सीसोदिया राजवंस कुळ गौरव अर उण रै सुतंतरता री रक्षा रै खातर घणौ ऊंचौ, आदरजोग अर पूजनीक मानीजै। राजस्थान रा बीजा रजवाड़ां में मेवाड़ वाळा सदा अपणी मान मरोड़, कुरब कायदा […]

रानी पद्मावती के जौहर की कहानी, ममता और कर्तव्य : भाग-1

रानी पद्मावती के जौहर की कहानी,   ममता और कर्तव्य : भाग-1

विक्रम संवत् 1360 के चैत्र शुक्ला तृतीया की रात्रि का चतुर्थ प्रहर लग चुका था । वायुमण्डल शांत था । अन्धकार शनैः शनैः प्रकाश में रूपान्तरित होने लग गया था । बसन्त के पुष्पों की सौरभ भी इसी समय अधिक तीव्र हो उठी थी । यही समय भक्तजनों के लिए भक्ति और योगियों के लिए […]

क्या महाराणा प्रताप को खानी पड़ी थी घास की रोटियां? या टॉड ने फैलाई भ्रान्ति

क्या महाराणा प्रताप को खानी पड़ी थी घास की रोटियां? या टॉड ने फैलाई भ्रान्ति

अकबर के साथ स्वतंत्रता की लड़ाई के दौरान महाराणा ने महल त्याग कर पहाड़ों में रहकर अकबर की शाही सेना के खिलाफ निरंतर संघर्ष जारी रखा| इस संघर्ष पर अपनी कलम चलाते हुए कई लेखकों, रचनाकारों ने कविताएं लिखी, जिनमें राणा के संघर्ष की कठिनाईयों को घास की रोटियां खाने की उपमाएं दी गई| इसी […]