खीरां आई खिचड़ी अर टिल्लो आयो टच्च

खीरां आई खिचड़ी अर टिल्लो आयो टच्च = मौके पर आना| गांवों में आज भी शादी हो या अन्य समारोह इंतजाम के लिए गांव वाले मिलकर ही कार्य करते है| शादी समारोह में मिठाइयाँ आदि बनाने के लिए हलवाई तो जरुर आता है पर उसकी सहायता के लिए गांव वाले ही कार्य करते है और […]

हाथ लुळीयौ जकौ ई आछौ = हाथ झुका वही बहुत अच्छा

हाथ लुळीयौ जकौ ई आछौ = हाथ झुका वही बहुत सन्दर्भ कथा – एक मुस्टंड साधू सवेरे सवेरे कंधे पर झोली टांग कर बस्ती में घर घर आटे के लिए घूमता | एक घर में एक ताई के अलावा उसे कोई भी मना नहीं करता था | फिर भी वह बिना नागा किये ताई के […]

कांम ई रांम है = काम ही राम है

कांम ई रांम है = काम ही राम है केवल चार शब्दों की नन्ही मुन्ही कहावत में प्रागैतिहासिक युग से भी बहुत पहले की झांकी मिल जाती है कि किसी ईश्वरीय चमत्कार से मनुष्य-मनुष्य नहीं बना ,बल्कि वह मेहनत और काम का ही करिश्मा है कि उसने मनुष्य के अगले दो पांवों को हाथों में […]

टका वाळी रौ ई खुणखुणियौ बाजसी

टका वाळी रौ ई खुणखुणियौ बाजसी = टका देने वाली का ही झुनझुना बजेगा | सन्दर्भ कथा — एक बार ताऊ मेले में जा रहा था | गांव में ताऊ का सभी से बहुत अच्छा परिचय था सो गांव की कुछ औरतों ने अपने अपने बच्चो के लिए ताऊ को मेले से झुनझुने व अन्य […]

राजस्थानी कहावतें हिन्दी व्याख्या सहित -2

घणा बिना धक् जावे पण थोड़ा बिना नीं धकै |अधिक के बिना तो चल सकता है,लेकिन थोड़े के बिना नही चल सकता |मनुष्य के सन्दर्भ में अधिक की तो कोई सीमा नही है – दस,बीस,सौ,हजार,लाख,अरब-खरब भी सीमा का अतिक्रमण नही कर सकते | सामान्य अथवा गरीब व्यक्ति के लिए अधिक धन के बिना तो जीवन […]