एक ने झटके से दुपट्टे के तार निकाले तो दुसरे ने घोड़े को हाथ से उठा लिया

एक ने झटके से दुपट्टे के तार निकाले तो दुसरे ने घोड़े को हाथ से उठा लिया

राव विरमदेव के स्वर्गवास होने के बाद राव जयमल मेड़ता के शासक बने, चूँकि जयमल को बचपन से ही जोधपुर के शक्तिशाली शासक राव मालदेव के मन में मेड़ता के खिलाफ घृणा का पता था, साथ ही जयमल राव मालदेव की अपने से दस गुना बड़ी सेना का कई बार मुकाबला कर चुका थे| अत: […]

जोधा-अकबर : कहाँ से शुरू हुआ भ्रम और विवाद ?

जोधा-अकबर : कहाँ से शुरू हुआ भ्रम और विवाद ?

गोवरिकर की फिल्म जोधा-अकबर को श्री राजपूत करणी सेना ने इतिहास के साथ छेड़छाड़ का आरोप लगाते हुए विरोध कर राजस्थान के किसी सिनेमाघर में आजतक प्रदर्शित नहीं होने दी| यह विवाद अभी ठीक से शांत ही नहीं हुआ था कि एकता कपूर की बालाजी टेलीफिल्म्स ने इसी विषय जोधा-अकबर पर सीरियल बना जी टीवी […]

राजा मानसिंह जोधपुर

राजा मानसिंह जोधपुर

जोधपुर के महाराजा मानसिंह का जन्म माघ शुक्ला ११ वि.स.१८३९, १३ फरवरी सन १७८३ को हुआ था| ये जोधपुर के तत्कालीन महाराजा विजय सिंह के पांचवे पुत्र गुमान सिंह के पुत्र थे| छ: वर्ष की छोटी आयु में ही इनकी माता का स्वर्गवास हो गया था तथा इनके पिता भी ३० वर्ष की अल्पायु में […]

कपडा रंगाई तकनीक का सफ़र

कपडा रंगाई तकनीक का सफ़र

पिछले दिनों आपने ज्ञान दर्पण पर कपड़ा छपाई तकनीक के सफर के बारे में पढ़ा| सामान्य ज्ञानवर्धन के लिए आज इसी श्रंखला में चर्चा करते है कपड़े की रंगाई करने की तकनीक के सफर पर- 1- पतीले में रंगाई :- शुरू में कपड़े की रंगाई एक बड़े पतीले में रंग घोलकर उसमे कपड़ा डुबो कर […]

कपड़ा छपाई तकनीक का सफ़र

कपड़ा छपाई तकनीक का सफ़र

फैशन की दुनियां में कपड़ों के रंग और उन पर छपी डिजाइंस का महत्व कौन नहीं जनता पर क्या कभी आपको यह जानने की उत्सुकता हुई है कि आखिर कपड़ों पर छपाई किस तरह और कौन कौन सी तकनीकी से की जाती है आईये आज चर्चा करते है कपड़ों पर छपाई के लिए प्रयोग की […]

पत्र का जबाब

पत्र का जबाब

मुगलों के राज में राजा महाराजाओं को मुग़ल दरबार में पद (मनसब) उनकी राजनैतिक हैसियत के साथ युद्धों में दिखाई गयी उनकी वीरता आदि के आधार पर दिए जाते जाते थे जिसकी तलवार में जितना जोर उसका मनसब उतना बड़ा | इसलिए मुग़ल दरबार में मनसब बांटते समय कोई विवाद नहीं रहता था | पर […]

राव चंद्रसेन

राव चंद्रसेन जोधपुर के राव मालदेव के छटे नंबर के पुत्र थे | उनका जन्म वि.स.१५९८ श्रावण शुक्ला अष्टमी (३० जुलाई १५४१ई.) को हुआ था | हालंकि इन्हें मारवाड़ राज्य की सिवाना जागीर दे दी गयी थी पर राव मालदेव ने इन्हें ही अपना उत्तराधिकारी चुना था | राव मालदेव की मृत्यु के बाद राव […]

दैनिक जागरण में ज्ञान दर्पण का लेख

दैनिक जागरण में ज्ञान दर्पण का लेख

दैनिक जागरण के १३ दिसम्बर २००९ रविवारीय अंक के फ़ूड यात्रा कालम में ज्ञान दर्पण पर जोधपुर के मिर्ची बड़ों पर लिखे लेख को जगह दी गयी | इससे पहले भी अगस्त में ज्ञान दर्पण के लेख जहाँ मन्नत मांगी जाती है मोटर साईकल से दैनिक जागरण प्रकाशित किया गया था | मजेदार और काम […]

एक आदर्श शहरी सार्वजनिक परिवहन प्रणाली |

एक आदर्श शहरी सार्वजनिक परिवहन प्रणाली |

शहरी सार्वजनिक यातायात प्रणाली सम्बंधित शहर की जीवन रेखा होती है | हर व्यक्ति के पास अपना स्वयम का आवागमन का साधन होना संभव नहीं होता | और सभी अपने साधन का ही प्रयोग करने लगे तो सडको की क्या हालत हो जायेगी इसका उदहारण आप दिल्ली जैसे शहर में अवश्य देखते होंगे | भीड़ […]

आज पनीर नहीं है , दाल में ही खुश रहो

आज पनीर नहीं है , दाल में ही खुश रहो

ऑरकुट पर स्क्रब में तरह तरह की कविताए आदि मिलते रहती है पेश है उन्ही में से मिली कुछ दोस्तों की स्क्रब कविताए जोधपुर से राज शेखावत ज़िन्दगी है छोटी, हर पल में खुश रहो …ऑफिस में खुश रहो, घर में खुश रहो … ჯહઔહჯ═══■■═══ჯહઔહჯ आज पनीर नहीं है , दाल में ही खुश रहो […]