राज्य का उत्तराधिकारी चुनने हेतु अनूठा आयोजन

Rao Raja Pratap Singh, Maharao Bakhtavar Singh of Alwar सन 1785 ई. के एक दिन अलवर के इतिहास प्रसिद्ध बाला दुर्ग के प्रांगण में एक अनूठे आयोजन के लिए शामियाना लगा था| इस आयोजन में अलवर के राजा राव प्रतापसिंह जी के नजदीकी रक्त सम्बन्धियों यानी राव कल्याणसिंह नरुका के वंशजों की बारह कोटडियों के […]