कोई कम ना समझे प्याज को

कोई कम ना समझे प्याज को

2007 के फरवरी माह की बात है मैं अपनी कम्पनी के लिए किसी अत्यंत जरुरी काम से जोधपुर महेश जी खत्री के कपड़ा छपाई कारखाने में गया हुआ था| मुझे जो कपड़ा वहां तैयार करवाना था एक तो वह बहुत जरुरी था फिर मुझे भी जल्द काम खत्म कर ससुराल में एक शादी में शामिल […]