एक आतंकी की फांसी के बहाने

आज फिर चौपाल पर हमारे पड़ौसी वर्मा जी का पिंटू अपने साथियों सहित हाथ में अफजल का चित्र लिए खड़ा था हम दूर से उसका उद्वेलित मक्कारीपूर्ण चेहरा देख ताड़ गये कि अफजल की फांसी से वह बहुत ज्यादा दुखी होने का नाटक कर कोई राजनैतिक फायदे के चक्कर में है और वैसे भी उसकी […]