डुअल बूट कंप्यूटर में उबुन्टू ग्रब बूट लोडर री-इंस्टाल करना

डुअल बूट कंप्यूटर में उबुन्टू ग्रब बूट लोडर री-इंस्टाल करना
अपने डुअल बूट कंप्यूटर में कुछ नए प्रयोगों के चलते पिछले दिनों विण्डो एक्सपी करप्ट होने के कारण दुबारा इंस्टाल करनी पड़ गयी | दुबारा विण्डो इंस्टाल करते ही बूट मीनू से कंप्यूटर में इंस्टाल उबुन्टू लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम गायब मिला | पहले भी दो बार एसा हो चूका था और दोनों बार उबुन्टू लिनक्स मेने दुबारा इंस्टाल किया लेकिन इस बार बड़ी मेहनत से उबुन्टू लिनक्स में कई सारे प्रोग्राम आदि इंस्टाल कर इसे अपडेट कर रखा था सो दुबारा उबुन्टू इंस्टाल करना बड़ा भारी लग रहा था साथ ही यह विचार कर कि इस तरह आने वाली समस्या का समाधान इन्टरनेट पर अवश्य होगा अतः समाधान के लिए गूगल बाबा की मदद ली गयी जहाँ हिंदी में तो कोई समाधान हाथ नहीं लगा लेकिन अंग्रेजी में ढेर सारी जानकारियां मिली जिनकी सहायता से कुछ ही देर में उबुन्टू लिनक्स का बूट लोडर री-इंस्टाल कर जैसे ही कंप्यूटर री-बूट किया मेरा मनपसन्द ऑपरेटिंग सिस्टम उबुन्टू लिनक्स बूट मीनू में विण्डो एक्सपी के साथ मौजूद था | दरअसल ऐसे कंप्यूटर में जिसमे लिनक्स व विण्डो दोनों इंस्टाल होती है उस कंप्यूटर में जब भी विण्डो दुबारा इंस्टाल करते है विण्डो का ग्रब बूट लोडर इंस्टाल हो जाता है जो बूट मीनू में लिनक्स को नहीं दिखता अतः लिनक्स ग्रब बूट लोडर री-इंस्टाल करते ही इस समस्या का निवारण हो जाता है |
कभी लिनक्स इस्तेमाल करते हुए इसकी जरुरत आपको भी पड़ सकती है अतः क्यों न यह जानकारी आपस में सांझा की जाय |
1- उबुन्टू की लाइव सी डी सी डी रोम में डाल कर कंप्यूटर को उससे बूट करे नीचे के चित्र अनुसार विण्डो खुलेगी जिसमे आप Try Ubuntu without any change to your computer पर क्लिक करे



थोडी देर में हाजिर है उबुन्टू लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम आपके कंप्यूटर पर |
2-A-अब Application– Accessories– Terminal खोले व टर्मिनल में टाईप करे sudo grub
B- अपने पासवर्ड टाईप करे व निम्न कमांड दे
> root (hd0,0)

> setup (hd0)

> exit

3- अब कंप्यूटर को री-स्टार्ट करे बूट मीनू में हाजिर है आपके दोनों ऑपरेटिंग सिस्टम |

8 Responses to "डुअल बूट कंप्यूटर में उबुन्टू ग्रब बूट लोडर री-इंस्टाल करना"

  1. AlbelaKhatri.com   September 5, 2009 at 3:43 am

    अत्यन्त उपयोगी और रोचक जानकारी,,,,,,,
    धन्यवाद……..
    हार्दिक धन्यवाद शेखावतजी………

    Reply
  2. उपयोगी जानकारी.. हैपी ब्लॉगिंग

    Reply
  3. राज भाटिय़ा   September 5, 2009 at 7:47 am

    बहुत अच्छी जानकारी दी आप ने
    धन्यवाद

    Reply
  4. नरेश सिह राठौङ   September 5, 2009 at 8:22 am

    इस कार्यक्रम को जारी रखिए । एक दिन ऐसा आयेगा कि आप भी उबंटु के विशेषज्ञ हो जायेंगे । इस प्रकार की जानकारीयो के लिये आभार ।

    Reply
  5. ताऊ रामपुरिया   September 5, 2009 at 11:33 am

    बहुत काम की जानकारी दी आपने.

    रामराम.

    Reply
  6. हमझ में कोनी आयो!
    पर इतना क्लियर हो गया कि आप कम्प्यूटर में ज्यादा दूर तक घुसे हुये हैं। कभी झाम फंसने पर काम आ सकते हैं! 🙂

    Reply
  7. ePandit   October 19, 2011 at 1:20 pm

    यह अच्छी जानकारी है, एक जमाने में मेरा लिनक्स से तौबा करने के कुछ कारणों में से एक यह भी था कि लिनक्स और विण्डोज़ के बूट लोडर एक-दूसरे को ओवरराइट कर जाते थे। लेकिन अब ऐसी समस्या नहीं रही।

    Reply
  8. Nirupam Sharma   December 20, 2011 at 3:27 am

    fine

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.