28.8 C
Rajasthan
Monday, November 28, 2022

Buy now

spot_img

२० सितम्बर को राष्ट्रपति करेंगी महाराव शेखाजी की प्रतिमा का अनावरण

राजस्थान के सीकर जिले में रलावता गांव में अरावली पर्वत श्रंखला की तलहटी में शेखावत वंश और शेखावाटी के प्रवर्तक व साम्प्रदायिक सदभाव के प्रतीक महाराव शेखाजी के स्मारक स्थल पर महाराव शेखाजी की नव निर्मित प्रतिमा का अनावरण महामहिम राष्ट्रपति श्रीमती प्रतिभा पाटिल देवीसिंह शेखावत २० सितम्बर को सुबह १० बजे करेंगी| इस अवसर पर आयोजित एक बड़े समारोह में राष्ट्रपति के पति श्री देवीसिंह शेखावत,केन्द्रीय मंत्री श्री भंवर जीतेन्द्रसिंह,श्री महादेवसिंह खंडेला, कांग्रेस के महासचिव श्री दिग्विजयसिंह,राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत,राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे के अलावा राजस्थान के सभी दलों के कई राजनेता व विधायक भाग लेंगे|

समारोह को सफल बनाने के लिए महाराव शेखाजी संस्थान के पदाघिकारी दिन-रात व्यवस्था में जुटे हैं। शेखाजी संस्थान के कार्यकारी अध्यक्ष व सचिव के अलावा जयसिंह बिडोली, राजेन्द्र सिंह मॅण्डरू, दशरथसिंह समेत कई लोग व्यवस्थाओं में लगे हुए हैं।

राष्ट्रपति की यात्रा को लेकर केन्द्रीय राज्य मंत्री महादेव सिंह खंडेला शनिवार को जायजा लेने रलावता पहुंचे और उन्होंने महाराव शेखाजी संस्थान के कार्यकारी अध्यक्ष जालिम सिंह आसपुरा व सचिव सम्पतसिंह धमौरा से मूर्ति अनावरण कार्यक्रम की जानकारी ली।उन्होंने हेलीपेड, जलपान, ठहराव, पार्किग व्यवस्था का जायजा लेकर अधिकारियों को दिशा-निर्देश दिए। जिला प्रमुख रीटा सिंह, अपर जिला कलक्टर बासुदेव शर्मा, अपर पुलिस अधीक्षक शरद चौधरी समेत जलदाय, सार्वजनिक निर्माण विभाग व बिजली निगम के अधिकारी भी मौजूद थे।

प्रतिमा का अनावरण समारोह कार्य्रम सुबह १० बजे से ११.३० बजे तक चलेगा | समारोह में पहुँचने वालों से निवेदन है कि सभी लोग सुबह १० बजे से पहले रलावता गांव के पास अरावली पर्वत श्रंखला की सुरम्य तलहटी में स्थित महाराव शेखाजी के स्मारक स्थल पर पहुंचे|

ज्ञात हो एक स्त्री के आत्म सम्मान की रक्षा के लिए हुए युद्ध में घायल होने के बाद इसी स्थान पर अक्षय तृतीया वि.स.१५४५ को महाराव शेखाजी की मृत्यु हुई थी जहाँ उनकी याद में स्मारक के रूप में एक छतरी बनी हुई है | जो आज भी उस महान वीर की गौरव गाथा स्मरण कराती है | राव शेखा अपने समय के प्रसिद्ध वीर,साहसी योद्धा , कुशल राजनीतिज्ञ व शासक थे,युवा होने के पश्चात उनका सारा जीवन लड़ाइयाँ लड़ने में बीता |

और अंत भी युद्ध के मैदान में ही एक सच्चे वीर की भांति हुआ,अपने वंशजों के लिए विरासत में वे एक शक्तिशाली राजपूत-पठान सेना व विस्तृत स्वतंत्र राज्य छोड़ गए जिससे प्रेरणा व शक्ति ग्रहण करके उनके वीर वंशजों ने नए राज्यों की स्थापना की विजय परम्परा को अठारवीं शताब्दी तक जारी रखा,राव शेखाजी ने अपना राज्य झाँसी दादरी,भिवानी तक बढ़ा दिया था | उनके नाम पर उनके वंशज शेखावत कहलाने लगे और शेखावातो द्वारा शासित भू-भाग“शेखावाटी”के नाम से प्रसिद्ध हुआ,इस प्रकार सूर्यवंशी कछवाहा क्षत्रियों में एक नई शाखा “शेखावत वंश”का आविर्भाव हुआ |

देश की आजादी के बाद इन्ही महाराव शेखाजी के वंशज स्व.श्री भैरोंसिंह जी ने देश के उपराष्ट्रपति पद को सुशोभित किया और वर्तमान राष्ट्रपति श्रीमती प्रतिभा पाटिल जी भी इन्ही महाराव शेखाजी के कुल की कुल वधु है|


स्मारक स्थल का विहंगम दृश्य

प्रतिमा अनावरण समारोह में आप सभी सादर आमंत्रित है| आप सभी महानुभावों से निवेदन है कि समारोह में ज्यादा से ज्यादा संख्या में पधारें|

Related Articles

13 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Stay Connected

0FansLike
3,583FollowersFollow
20,300SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles