मृत्यु का पूर्वाभास : क्रांति के अग्रदूत राव गोपालसिंह खरवा के अद्भुत महाप्रयाण की घटना

मृत्यु का पूर्वाभास : क्रांति के अग्रदूत राव गोपालसिंह खरवा के अद्भुत महाप्रयाण की घटना
मनुष्य को अपनी मृत्यु के पूर्वाभास होने की कई कहानियां आपने भी अपने आस-पास सुनी होगी | मेरा भी ऐसी कई घटनाओं से वास्ता पड़ा है जिसमे मरने वाले ने अपनी मृत्यु के सही सही समय के बारे में अपने परिजनों व उपस्थित लोगों को बता दिया | पर ऐसी घटनाओं को हम यह सोचकर कि मरने वाले के परिजन अपने पारिवारिक सदस्य को महिमामंडित करने में लगे है भरोसा नहीं करते | अभी पिछले सप्ताह ही जब मैंने राजस्थान में स्वतंत्रता के लिए अंग्रेजों के विरुद्ध सशस्त्र क्रांति के अग्रदूत रावगोपालसिंह खरवा के बारे हिंदी विकी पर जानकारी जोड़ने के लिए इतिहास की किताबे खंगाल रहा था कि अचानक मेरी नजर उनकी मृत्यु के समय उपस्थित उनके डाक्टर द्वारा उनकी मृत्यु की अद्भुत घटना के बारे में लिखे एक लेख पर पड़ी तो सोचा क्यों न स्वातंत्र्य-समर के इस सेनानी के महाप्रयाण की इस अद्भुत घटना से आपको भी रूबरू करवा दिया जाये जिसे प्रत्यक्षदर्शी उनके डाक्टर अंबालाल शर्मा ने खुद लिखी –

डा.आम्बालाल शर्मा के अनुसार-

राव गोपालसिंहजी श्रीकृष्ण के अनन्य भक्त थे | पिछले आठ वर्ष उन्होंने वीतराग साधू की भांति कभी पुष्कर में तो कभी खरवा के बाहर बने एकांत स्थान में रहकर भगवत स्मरण में बिताये | अपनी जवानी के दिनों में वे उग्र राजनीति को मानने वाले थे | देश की स्वतंत्रता हेतु वे बलशाली ब्रिटिश गवर्नमेंट से भीड़ गए थे | देशहित में बहुत कष्ट उठाये एवं खरवा के राज्य का भी उन्हें त्याग करना पड़ा | अब उनकी मृत्यु की पुण्यमयी कथा सुनाता हूँ-
मृत्यु से लगभग दो मास पूर्व उनके शरीर में उदर विकार के लक्षण प्रकट हुए | मैंने एक्सरे द्वारा परीक्षा कराई एवं निश्चय हुआ कि उनकी आँतों में केंसर रोग है | वेदना इतनी भयंकर थी कि मार्फीन के इंजेक्शन से भी कोई आराम नहीं मिलता था |किन्तु उस भीषण वेदना में भी मन को आश्चर्यजनक रूप से एकाग्र करके श्रीकृष्ण के ध्यान में वे नियमपूर्वक बैठते थे | एवं जितने समय वे ध्यान में रहते थे, वेदना की रेखा उनके ललाट पर जरा भी नहीं रहती थी | इस बुढ़ापे में 66 वर्ष की आयु में दो महीने तक कुछ न खाकर भी उनमे तेज और साहस की कमी नहीं हुई थी |

मृत्यु के चार दिन पूर्व रोग के विष के कारण उन्हें हिचकी और वमन शुरू हो गयी थी | पिछले चार दिनों में तो एक चम्मच पानी भी उनके पेट में न जा सका,किन्तु श्रीकृष्ण का ध्यान तब भी नहीं छुटा | मृत्यु के पहले दिन सांयकाल के समय मैंने उनसे निवेदन किया कि यदि आपको कोई वसीयत करनी हो तो शीघ्र करलें | विष के कारण आप रात्री में मूर्छा की अवस्था में पहुँच जायेंगे | वे कहने लगे -” यह असंभव है कि गोपालसिंह चोदू(कायर) की मौत मर जाये | मौत से भी चार हाथ होंगे | आप देखते जाईये भगवान् कृष्ण क्या क्या करते है |” उसी समय उन्होंने अपने पास रहने वाले भजन गायक बिहारी को कहा कि डाक्टर साहब को भीष्म प्रतिज्ञा वाला वह भजन सुनाओ |
“आज जो हरि ही न शस्त्र गहाऊं, तो लाजौ गंगा जननी को, शांतनु सुत न कहाऊं |”
कैसा दृढ आत्मविश्वास और कैसी गजब की निष्ठा थी उनमे |

मेरे आश्चर्य की सीमा नहीं रही जब दुसरे दिन प्रात:काल पांच बजे मैं उठा | मैंने उन्हें ध्यान में बैठे देखा | ध्यान पूरा होने के पर वे कहने लगे -” डाक्टर साहब ! आज हिचकी बंद है | दस्त भी स्वत: एक महीने बाद आज ही हुई है | मैं बहुत हल्का हूँ |”
मैंने एक डाक्टर की तरह कहा -” ईश्वर करे आप अच्छे हो जाएँ |” वे कहने लगे कि – “नहीं अब शरीर नहीं रहेगा | किन्तु भगवान् के ध्यान में विध्न न हो,इसलिए श्रीकृष्ण ने ये बाधाएं दूर करदी है |”
करीब दस बजे मैंने आकर देखा कि उनकी नाड़ी जा रही है मैंने कहा- ” राव साहब ! अब करीब आधा घंटा शेष है |”
राव साहब कहने लगे- ” नहीं अभी तो पांच घंटा समय शेष है,घबराएं नहीं |”

सवा दो बजे मैं पहुंचा,नमस्ते किया | उनके सेक्रेटरी पास बैठे गीता पढ़ रहे थे | मुझसे से कहा -” आप गीता सुनाईये |” जब वे गीता सुन रहे थे तो उनका मस्तिष्क कितना स्वच्छ था,उस समय भी वे कहीं कहीं किसी पद का वे अर्थ पूछ लेते थे | ठीक मृत्यु से पांच मिनट पहले वे आसन पर बैठ गए -गंगाजल पान किया,तुलसी पत्र लिया,गंगाजी की रेती(मिटटी) का ललाट पर लेप किया एवं वृन्दावन से मंगवाई रज सर पर रखी हाथ जोड़कर ध्यान करने लगे | सहसा बोल उठे –
” डाक्टर साहब ! अब आप लोग नहीं दिखाई दे रहे है | श्रीकृष्ण दिख रहे है | ये श्रीकृष्ण खड़े है मैं इनके चरणों में लीन हो रहा हूँ | हरि ॐ तत्सत -हरि ॐ – बस एक सैकिंड “-महाप्रस्थान हो गया | हम सब विस्फरित नेत्रों से देखते रह गए |
धन्य आधुनिक भीष्म ! धन्य मृत्युंजय ! धन्य तुम्हारी इस मौत पर दुनिया की बादशाहत कुरबान है |

डाक्टर साहब का उपरोक्त लेख कल्याण के गीता तत्वांक में छपा था पर मैंने इसे ठाकुर सुरजनसिंह जी शेखावत द्वारा लिखित पुस्तक “राव गोपालसिंह खरवा” के पृष्ठ स.९४,९५ से लिया है | राव साहब के महाप्रयाण के समय राजस्थान के महान इतिहासकार श्री सुरजनसिंह जी शेखावत भी वहां प्रत्यक्ष तौर पर उपस्थित थे | उन्ही के शब्दों में – “उनकी मृत्यु योगिराजों के लिए ईर्ष्या का विषय थी | उनकी मृत्यु क्या थी ? भगवत भक्ति का सचेतन इन्द्रियों और मन बुद्धि के साथ बैकुंठ प्रयाण था |”

राव साहब के बारे हिंदी विकी पर जानकारी हेतु यहाँ क्लिक करें |

12 Responses to "मृत्यु का पूर्वाभास : क्रांति के अग्रदूत राव गोपालसिंह खरवा के अद्भुत महाप्रयाण की घटना"

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.