रानी जसवंत दे हाड़ी

जसवंत दे बूंदी के राव हाडा की पुत्री थी | हाडा वंश की यह राजकुमारी अत्यंत वीर व साहसी महिला थी | जोधपुर के महाराजा जसवंत सिंह (प्रथम) के साथ इसका विवाह सम्पन्न हुआ | महाराजा जसवंत सिंह भी बड़े वीर और पराक्रमी राजा थे | मुग़ल दरबार में उन्हें महत्त्वपूर्ण मनसब मिला हुआ था | शाहजहाँ के उत्तराधिकार के युद्ध में,जो दारा और औरंगजेब के मध्य लड़ा गया,उसमे महाराजा जसवंत सिंह ने दारा का समर्थन किया | औरंगजेब और मुराद सम्मिलित रूप से मिलकर दारा का विरोध कर रहे थे और औरंगजेब खुद बादशाह बनना चाहता था इसलिए धरमट का इतिहास प्रसिद्ध युद्ध हुआ |
धरमट के युद्ध में दारा समर्थित सेना की पराजय होती है और औरंगजेब विजयी होता है | जसवंत सिंह के कई वीर सामंत इस युद्ध में काम आये और स्वयं जसवंत सिंह को भी घायलावस्था में युद्ध के मैदान से बाहर निकालकर आसकरण,महेसदास आदि ने सुरक्षित स्थान पर पहुँचाया | औरंगजेब दिल्ली का बादशाह बना और अपने पिता शाहजहाँ को कैद में डाल दिया और दारा की हत्या कर दी | जसवंत सिंह ऐसी स्थिति में,मारवाड़ अपने राज्य में लौट आये |
रानी जसवंत दे जो जसवंत सिंह की पत्नी थी,को जब ज्ञात हुआ कि महाराजा युद्ध में विफल होकर लौटे है तो उस राजपूत नारी का वीरत्व जाग उठा | नागिन कि भांति फुफकारते हुए उसने कहा-” महाराजा का रूप धरे ये कोई छलिया है | राजपूत युद्ध में पराजित होकर जीवित नहीं लौट सकता | किलेदार ! किले का द्वार बंद करदो और ध्यान रहे मेरी आज्ञा बिना यह द्वार नहीं खुले |” रानी की इस वीरोचित भावना का जब महाराजा को पता चला तो उन्हें इस वीर नारी पर गर्व हुआ और अपने प्रधान सामंत को भेजकर जिन परिस्थितियों में उन्हें लौटना पड़ा,उनकी रानी को जानकारी करवाई तब कहीं जाकर रानी ने किले के द्वार खुलवाये |
अपने पति द्वारा क्षात्रधर्म का पालन नहीं करने पर एक राजपूत नारी के स्वाभिमान को कितनी चोट पहुँचती है,जसवंत दे इसका एक उदहारण है | उसने अपनी गौरवमयी परम्परा का निर्वाह न करने पर प्राणेश्वर को भी नहीं बक्शा | ऐसी वीर राजपूत नारियों के बल पर ही राजपूतों का कुल गौरव,प्रतिष्ठा और मान-सम्मान टिका है |
डा.विक्रमसिंह राठौड़,गुन्दोज
चोपासनी शोध संस्थान,जोधपुर

5 Responses to "रानी जसवंत दे हाड़ी"

  1. प्रवीण पाण्डेय   January 22, 2011 at 1:13 pm

    यदि नारियाँ ऐसी हों तो वीर भी न डिगेंगे।

    Reply
  2. क्या वीर महिलायें पैदा हुई हैं भारत की इस धरती पर.

    Reply
  3. वाणी गीत   January 23, 2011 at 1:39 am

    राजस्थान की मिट्टी तो इन शूरवीर महिलाओं के रक्त से सनी हुई है !

    Reply
  4. P.N. Subramanian   January 23, 2011 at 2:56 pm

    बल काल में यह हमारे पाठ्य पुस्तक में थी . सुन्दर.

    Reply
  5. ज़ाकिर अली ‘रजनीश’   January 25, 2011 at 9:57 am

    इस रोचक जानकारी के लिए आभार।

    ——-
    क्‍या आपको मालूम है कि हिन्‍दी के सर्वाधिक चर्चित ब्‍लॉग कौन से हैं?

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.