कुलदेवी क्षेमंकरी (खीमज) माता

कुलदेवी क्षेमंकरी (खीमज) माता

क्षेमाचर्या क्षेमंकारी देवी जिसे स्थानीय भाषाओं में क्षेमज, खीमज, खींवज आदि नामों से भी पुकारा व जाना जाता है। इस देवी का प्रसिद्ध व प्राचीन मंदिर राजस्थान के भीनमाल कस्बे से लगभग तीन किलोमीटर भीनमाल खारा मार्ग पर स्थित एक डेढ़ सौ फुट ऊँची पहाड़ी की शीर्ष छोटी पर बना हुआ है। मंदिर तक पहुँचने हेतु पक्की सीढियाँ बनी हुई है। भीनमाल की इस देवी को आदि देवी के नाम से भी जाना जाता है। भीनमाल के अतिरिक्त भी इस देवी के कई स्थानों पर प्राचीन मंदिर बने है जिनमें नागौर जिले में डीडवाना से 33 किलोमीटर दूर कठौती गांव में, कोटा बूंदी रेल्वे स्टेशन के नजदीक इंद्रगढ़ में व सिरोही जालोर सीमा पर बसंतपुर नामक जगह पर जोधपुर के पास ओसियां आदि प्रसिद्ध है। सोलंकी राजपूत राजवंश इस देवी की अपनी कुलदेवी के रूप में उपासना करता है|

देवी उपासना करने वाले भक्तों को दृढविश्वास है कि खीमज माता की उपासना करने से माता जल, अग्नि, जंगली जानवरों, शत्रु, भूत-प्रेत आदि से रक्षा करती है और इन कारणों से होने वाले भय का निवारण करती है। इसी तरह के शुभ फल देने के चलते भक्तगण देवी माँ को शंभुकरी भी कहते है। दुर्गा सप्तशती के एक श्लोक अनुसार-“पन्थानाम सुपथारू रक्षेन्मार्ग श्रेमकरी” अर्थात् मार्गों की रक्षा कर पथ को सुपथ बनाने वाली देवी क्षेमकरी देवी दुर्गा का ही अवतार है।

जनश्रुतियों के अनुसार किसी समय उस क्षेत्र में उत्तमौजा नामक एक दैत्य रहता था। जो रात्री के समय बड़ा आतंक मचाता था। राहगीरों को लूटने, मारने के साथ ही वह स्थानीय निवासियों के पशुओं को मार डालता, जलाशयों में मरे हुए मवेशी डालकर पानी दूषित कर देता, पेड़ पौधों को उखाड़ फैंकता, उसके आतंक से क्षेत्रवासी आतंकित थे। उससे मुक्ति पाने हेतु क्षेत्र के निवासी ब्राह्मणों के साथ ऋषि गौतम के आश्रम में सहायता हेतु पहुंचे और उस दैत्य के आतंक से बचाने हेतु ऋषि गौतम से याचना की। ऋषि ने उनकी याचना, प्रार्थना पर सावित्री मंत्र से अग्नि प्रज्ज्वलित की, जिसमें से देवी क्षेमकरी प्रकट हुई। ऋषि गौतम की प्रार्थना पर देवी ने क्षेत्रवासियों को उस दैत्य के आतंक से मुक्ति दिलाने हेतु पहाड़ को उखाड़कर उस दैत्य उत्तमौजा के ऊपर रख दिया। कहा जाता है कि उस दैत्य को वरदान मिला हुआ था वह कि किसी अस्त्र-शस्त्र से नहीं मरेगा। अतः देवी ने उसे पहाड़ के नीचे दबा दिया। लेकिन क्षेत्रवासी इतने से संतुष्ट नहीं थे, उन्हें दैत्य की पहाड़ के नीचे से निकल आने आशंका थी, सो क्षेत्रवासियों ने देवी से प्रार्थना की कि वह उस पर्वत पर बैठ जाये जहाँ वर्तमान में देवी का मंदिर बना हुआ है तथा उस पहाड़ी के नीचे नीचे दैत्य दबा हुआ है।

देवी की प्राचीन प्रतिमा के स्थान पर वर्तमान में जो प्रतिमा लगी है वह 1935 में स्थापित की गई है, जो चार भुजाओं से युक्त है। इन भुजाओं में अमर ज्योति, चक्र, त्रिशूल तथा खांडा धारण किया हुआ है। मंदिर के सामने व पीछे विश्राम शाला बनी हुई है। मंदिर में नगाड़े रखे होने के साथ भारी घंटा लगा है। मंदिर का प्रवेश द्वार मध्यकालीन वास्तुकला से सुसज्जित भव्य व सुन्दर दिखाई देता है। मंदिर में स्थापित देवी प्रतिमा के दार्इं और काला भैरव व गणेश जी तथा बाईं तरफ गोरा भैरूं और अम्बाजी की प्रतिमाएं स्थापित है। आसन पीठ के बीच में सूर्य भगवान विराजित है।

नागौर जिले के डीडवाना से 33 कि.मी. की दूरी पर कठौती गॉव में माता खीमज का एक मंदिर और बना है। यह मंदिर भी एक ऊँचे टीले पर निर्मित है ऐसा माना जाता है कि प्राचीन समय में यहा मंदिर था जो कालांतर में भूमिगत हो गया। वर्तमान मंदिर में माता की मूर्ति के स्तम्भ’ के रूप से मालुम चलता है कि यह मंदिर सन् 935 वर्ष पूर्व निर्मित हुआ था। मंदिर में स्तंभ उत्तकीर्ण माता की मूर्ति चतुर्भुज है। दाहिने हाथ में त्रिशूल एवं खड़ग है, तथा बायें हाथ में कमल एवं मुग्दर है, मूर्ति के पीछे पंचमुखी सर्प का छत्र है तथा त्रिशूल है।

क्षेंमकरी माता का एक मंदिर इंद्रगढ (कोटा-बूंदी ) स्टेशन से 5 मील की दूरी पर भी बना है। यहां पर माता का विशाल मेला लगता है। क्षेंमकरी माता का अन्य मंदिर बसंतपुर के पास पहाडी पर है, बसंतपुर एक प्राचीन स्थान है, जिसका विशेष ऐतिहासिक महत्व है। सिरोही, जालोर और मेवाड की सीमा पर स्थित यह कस्बा पर्वत मालाओ से आवृत्त है। इस मंदिर का निर्माण विक्रम संवत 682 में हुआ था। इस मंदिर का जीर्णोद्वार सिरोही के देवड़ा शासकों द्वारा करवाया गया था। एक मंदिर भीलवाड़ा जिला के राजसमंद में भी है। राजस्थान से बाहर गुजरात के रूपनगर में भी माता का मंदिर होने की जानकारी मिली है।

Khimaj Mata Temple Bhinmal Story in Hindi, Kuldevi of Solanki Rajputs, Solankiyon ki kuldevi Khimaj mata, khinwaj mata, kshemkari devi, bhinmal ki devi, Khimaj Mata temple indragarh kota, Rajput Kuldevi,

9 Responses to "कुलदेवी क्षेमंकरी (खीमज) माता"

  1. अजय कुमार झा   October 1, 2015 at 6:57 am

    बहुत ही कमाल की अद्भुत जानकारी दी आपने | मैं नित्य दुर्गा सप्तशती का पाठ करता हूँ और उस श्लोक का भी जो आपने पोस्ट में लिखा है। किन्तु माता क्षेमकरी के विषय में अब तक अनजान था | आपका आभार

    Reply
    • Adi Praveen   September 18, 2016 at 9:57 am

      Sahab maa kshemankari laxmi ka avtar hai. Kabhi aiye bhinmal

      Reply
    • Ashish Doshi   December 26, 2016 at 10:09 am

      @ Adi praveen,

      Sahab,

      Me Bhinmal me khimaj mata ke darshan ke liye ane wala hu. Rehne ke liye kaisa intzam hai? Khimaj ma ke madir me Daramshala ki vyavasta ki hai kya?

      Reply
  2. PREM WAGHELA   February 22, 2016 at 5:49 pm

    bahut bahut aabhar hukum aapka jay shree khimaj mataji

    Reply
  3. PREM WAGHELA   February 22, 2016 at 5:49 pm

    jay khimaj maa

    Reply
  4. Kiran Electronics   June 7, 2016 at 5:59 am

    jay shree khimaj mataji chiranjelal kumawth

    Reply
  5. Mahendra singh solanki   December 21, 2016 at 11:34 am

    Khinwaj maiyaa ki jai

    Reply
  6. hemant nenava   June 9, 2017 at 11:20 am

    A temple in Dei near Nenava nagar in Bundi Rajasthan is said to have original idol of khemkari mataji which were brought here to save them from mughal. This is worshipped as kuldevi by Solanki Nenava and other Godhra in this area. Details you can contact me on +919826098200

    Reply
  7. Nakul Singh Solanki Pachlawada   February 26, 2018 at 9:50 am

    This is very wrong information. The original temple of Khewaj Mata Ji is situated in village Dei, bundi district in Rajasthan. The temple was founded somewhere in 10th Century AD by Maharaja Mulraj Solanki, founder of Solanki dynasty of Gujarat. It was then renovated by Mahajara Sidhraj Jaisinh Solanki of gujarat. There is a whole book written on the history of Solanki rajputs and the temple which is available in the Khewaj Mata temple, Dei. Please stop misspreading the wrong and distorted history of Maa khewaj and the Solankis. The bhinmal temple is not the original and foremost temple of Mata Khewaj. It is a relatively very new constructed temple.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.