सूचना के अधिकार का कैसे प्रयोग करें ?

सूचना के अधिकार का कैसे प्रयोग करें ?

फेसबुक पर अक्सर मित्र पूछते है कि सूचना के अधिकार के द्वारा सूचना कैसे प्राप्त की जाये, कैसे आवेदन किसको भेजा जाए आदि आदि| अत: आज हम इसीइसी प्रश्न पर चर्चा करेंगे कि इस  कानून का इस्तेमाल करते हुए आरटीआई के माध्यम में कैसे किसी विभाग से सूचना मांगी जाय –

किसी भी विभाग से हमें जो सूचनाएं चाहिए या दस्तावेज चाहिए उनका हम सूचना के अधिकार अधिनियम 2005 के अंतर्गत निरीक्षण कर सकते है और अपनी जरुरत के दस्तावेजों की फोटो प्रतियाँहासिल कर सकते है|

आरटीआई आवेदन के साथ 10 रु. बतौर फीस भेजनी होती है जिसे हम संबंधित विभाग में रोकड़ जमा करा सकते है या फिर पोस्ट ऑफिस से 10 रूपये मूल्य का पोस्टल आर्डर लेकर साथ भेज सकते है|

जिन दस्तावेजों की हमें फोटो प्रतियाँ चाहिए, उन प्रतियाँ का विभाग 2 रूपये बतौर फ़ीस प्रति फोटो प्रति वसूल करेगा जो हम जमा करा कर ले सकते है|

सूचना पाने के लिए आवेदन का कोई फॉर्म या फोर्मेट तय नहीं है आप सादे कागज पर अपनी भाषा में सूचना के अधिकार कानून के अंतर्गत लिखकर कोई भी सूचना किसी भी सरकारी विभाग से प्राप्त कर सकते है या सरकारी कार्यालय के काम का निरीक्षण कर सकते है| आरटीआई कैसे लिखे यह निम्न उदाहरण के द्वारा समझा जा सकता है –
———————————————————————————————————————–

लोक सूचना अधिकारी                                                 दिनांक :
उप-निदेशक, कृषि विस्तार,
जिले का नाम (राज)- पिन –
विषय : सूचना के अधिकार अधिनियम 2005 के अंतर्गत सूचना प्राप्त करने हेतु
महोदय,
सूचना
के अधिकार कानून के तहत आपके कार्यालय से सम्बंधित निम्न दस्तावेजों का निरिक्षण
करना चाहता हूँ
1-      आपके कार्यालय का नवंबर 2014 महीने का भौतिक व
वित्तीय मासिक प्रगति प्रतिवेदन (M.P.R)
2-      उप-निदेशक द्वारा नवंबर 2014 महीने में किये गए
दौरा का प्रतिवेदन (Visit Report)
3-      आपके कार्यालय में सूचना के अधिकार अधिनियम 2005
(RTI) के तहत
प्राप्त आवेदन और आपके कार्यालय द्वारा उन पर की गई कार्यवाही के विवरण से संबंधित
दस्तावेज|
निरीक्षण के पश्चात् मैं आवश्यक दस्तावेज की प्रतियाँ नियमानुसार
शुल्क जमा करवाकर प्राप्त कर लूँगा |
मुझे आपके कार्यालय के उस जिम्मेदार अधिकारी या कर्मचारी का पदनाम व
फोन न. बता दें जिनके पास जाकर मैं दस्तावेजों का निरीक्षण कर सकता हूँ |
भवदीय 
नाम 
पता 

सलंग्न
– पोस्टल आर्डर नंबर                      मूल्य 10/-रूपये
———————————————————————————— 

उपरोक्त उदाहरण के अनुसार किसी भी विभाग को इस तरह लिखकर आप डाक द्वारा संबंधित विभाग के पते पर भेज सकते है| यदि आपके पास के पोस्ट ऑफिस कार्यालय का पोस्ट मास्टर

लोक सूचना अधिकारी के तौर पर नियुक्त है तो आप कहीं भी किसी विभाग का आवेदन उसे दे सकते है, उसकी जिम्मेदारीहैकिवहआपकाआवेदनसंबंधितअधिकारीतकपहुंचाएगा|

कई बार हमें पता नहीं होता कि हम किस विभाग में किस तरह की जानकारी मांगे, यदि आपको किसी भी विभाग के क्रियाकलापों का पता नहीं है तो आप उपरोक्त उदाहरण आवेदन में मांगी गई तीन सूचनाएं हर विभाग से मांग सकते है! आपको जानकार ताज्जुब होगा कि हमारे द्वारा कर के धन से सरकारी अधिकारी दौरों के नाम पर मौज करते है अत: उनके दौरों का विवरण मांगिये, उनकी गाड़ी की लोग बुक मांगिये, किसी भी सरकारी कार्यालय की मासिक प्रगति रिपोर्ट मांगिये, आप द्वारा मात्र ये मामूली सूचनाएं मांगते रहने व इनका निरीक्षण करते रहने के बाद यह पक्का है कि आपके क्षेत्र के अधिकारी कार्य के प्रति जिम्मेदार होंगे व भ्रष्टाचार में गिरावट अवश्य आएगी !!

how to file rti, how to use rti, rti application form, rti format 

2 Responses to "सूचना के अधिकार का कैसे प्रयोग करें ?"

  1. पी के शर्मा   December 9, 2014 at 11:49 pm

    अगर सूचना देने में आनाकानी की जाए तो क् या करें

    Reply
  2. Kavita Rawat   December 10, 2014 at 5:48 am

    बहुत बढ़िया लाभप्रद जानकारी …

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.