इतिहास के आईने में राजस्थान का नामकरण

आजादी से पूर्व राजस्थान के भूभाग पर विभिन्न राजपूत राजकुलों का शासन होने के कारण राजपूताना कहलाता था। राजपुताना शब्द मुगलकाल से ही प्रचलित था। इतिहासवेत्ता डा. रघुवीरसिंह सीतामऊ ने ‘राजस्थान के प्रमुख इतिहासकार उनका कृतित्व’ में लिखा है- भाग्य की यह अनोखी विडम्बना ही है कि जिस विधर्मी विजेता अकबर के प्रति राजस्थान में सतत विरोध उभरता रहा, ‘अजमेर सूबे’ का संगठन कर उसी ने इतिहास में प्रथम बार इस समूचे क्षेत्र को प्रादेशिक इकाई का स्वरूप दिया।’ मुगलकाल के बाद अंग्रेजों के शासनकाल में यहाँ के राजाओं के साथ संधियाँ होने के बाद अजमेर में राजपूताना एजेंसी की स्थापना हुई। इस तरह मेवाड़, मारवाड़, ढूंढाड़, शेखावाटी, हाड़ौती, मत्स्य, जांगल, बागड़, सपालदक्ष, शाकम्बरी आदि रियासतों के नाम वाला यह प्रदेश एक प्रादेशिक इकाई के रूप में राजपूताना के नाम से पहचाना जाने लगा। पर आजादी के बाद देश की सर्वोच्च जनतंत्रीय संसद ने इस प्रदेश को राजस्थान का नाम दिया।
राजस्थानअब प्रश्न यह उठता है कि सदियों से प्रचलित रहे राजपूताना शब्द की जगह इस प्रदेश के लिए ‘राजस्थान’ शब्द सबसे पहले किसने प्रयुक्त किया। इसके लिए इतिहास पर नजर डाली जाये तो आजादी के बाद के सभी इतिहासग्रंथों में राजस्थान प्रदेश के नामकरण का श्रेय कर्नल जेम्स टॉड को प्रदान किया है। इतिहासवेत्ता डा. रघुवीरसिंह सीतामऊ ‘राजस्थान के प्रमुख इतिहासकार उनका कृतित्व’ में लिखते है- ‘‘अनेकों समन्दर पार कर विदेशी गोरी सत्ता का अधिपत्य करवाने में प्रमुख अभिकर्ता, कर्नल जेम्स टॉड उस प्रदेश के वर्तमान नाम ‘राजस्थान’ का सुझाव ही नहीं दिया, परन्तु अपने अनुपम ग्रन्थ ‘टॉड राजस्थान’ के द्वारा उसकी कीर्ति-गाथा को जगत विख्यात भी किया, और जिससे वह सदैव आशंकित रहा, अंततः उसी दिल्ली ने भारतीय स्वाधीनता प्राप्ति के बाद इसी राजस्थान को राजनैतिक और शासकीय इकाई के रूप में पूर्णतया सुसंगठित ही नहीं किया, अपितु उसे जनतंत्रीय स्वायत्तता भी प्रदान की।’’ डा. रघुवीरसिंहजी के समान ही अनेक इतिहासकारों ने राजस्थान नामकरण का श्रेय कर्नल टॉड को दिया है। क्योंकि कर्नल टॉड द्वारा लिखे गये राजस्थान के इतिहास ‘एनल्स एण्ड एंटीक्विटीज ऑफ राजस्थान’ जो विश्व में प्रसिद्ध हुआ, के शीर्षक में ही राजस्थान नामकरण के इतिहास से सम्बधित गूढ़ तथ्य समाहित है। इसी पुस्तक के प्रसिद्ध होने के बाद राजस्थान शब्द आम प्रचलन में आया।

हालाँकि ऐसा नहीं कि राजस्थान शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम कर्नल टॉड ने ही किया था। इससे पहले भी यह शब्द राजस्थानी भाषा में स्थान विशेष को लेकर रायथान या रायथाण के रूप में प्रयोग होता आया है। कर्नल टॉड कृत ‘राजस्थान का पुरातन एवं इतिहास’ पुस्तक की प्रस्तावना में इतिहासकार जहूर खां मेहर लिखते है- ‘‘यदि हम गहराई से राजस्थान शब्द की विभिन्न कालों में यात्रा की खोज करें तो ज्ञात होगा कि राजस्थान शब्द का अबतक का ज्ञात प्राचीनतम उल्लेख वि.सं. 682 का है जो

पिण्डवाड़ा से तीन कोस की दूरी पर स्थित बसंतगढ़ में खीमल माता के मंदिर के पास शिलालेख पर उत्कीर्ण है। मुंहणोत नैणसी, जोधपुर के घड़ोई गांव के निवासी तथा महाराजा अभयसिंह (1724-1749 ई.) के आश्रित कवि वीरभांण रतनू ने अपने ग्रन्थ राजरूपक में भी राजस्थान शब्द का उल्लेख किया है, इसी प्रकार जोधपुर के महाराजा भीमसिंह ने 1793 ई. में जयपुर के महाराजा जगतसिंह को जो पत्र लिखा था, जिसमें मराठों के विरुद्ध राजपूत राज्यों की एकता का आव्हान किया गया था, राजस्थान शब्द का उल्लेख है। अनेक अन्य टॉड पूर्व के साधनों में राजस्थान शब्द विद्धमान है।’’

इसी पुस्तक की प्रस्तावना में इतिहासवेत्ता जहूर खां मेहर ने नैणसी, जखड़ा मुखड़ा भाटी री बात, दयालदास सिंढायच री ख्यात, कहवाट सरवहिये री वात, वीरभाण रतनू का राजरूपक, बाँकीदास द्वारा लिखित बाँकीदास ग्रंथावली में प्रयुक्त ‘राजस्थान’ शब्द वाले कई वाक्य लिखें है जैसे-

इतरै गोहिलां पिण आलोच कियौ- जो राठोड़ जोरावर सिरांणै आय राजस्थांन मांडियौ।- नैणसी

विणजारै रै सदाई हुवै छै, इसौ वहानौ करि चालतौ चालतौ गिरनार री तळहटी पाबासर माहै राजथांन छै, तठै आय पड़ियौ।- कहवाट सरवहिये री वात

सूम मिळै अन सहर में, सहर उजाड़ समान। जो जेहो- वन में मिळै, बन ही राजसथांन।- बाँकीदास ग्रंथावली
थिर ते राजस्थान महि इक छत्र मोम सांमथ। अेके आंण अखंड, खंडण मांण प्राण नव खंडं।- वीरभाण रतनू – राजरूपक

उपरोक्त तथ्यों को पढने के बाद जाहिर है टॉड की कृति ‘एनल्स एण्ड एंटीक्विटीज ऑफ राजस्थान’ के पहले भी राजस्थानी साहित्य, शिलालेख व पत्र में राजस्थान शब्द का प्रयोग किया गया है। टॉड पूर्व राजस्थानी शब्द का प्रयोग दो अर्थों राजधानी अर्थात् राजा का स्थान के रूप में प्रयोग किया जाता रहा है। शायद टॉड ने उनमें से दूसरे अर्थ यानी राजा का स्थान को ग्रहण कर अपने ग्रन्थ का नामकरण किया हो। पर इतना तय है कि इस शब्द का प्रयोग सीमित था। टॉड द्वारा अपनी पुस्तक के शीर्षक में राजस्थान शब्द के प्रयोग और टॉड की इतिहास पुस्तक के विश्व प्रसिद्ध होने के बाद राजस्थान शब्द भी प्रसिद्धि में आया|

आजादी से पूर्व उदयपुर के महाराणा भूपाल सिंह ने 8 मई 1943 में ख्याति प्राप्त उद्योगपति गोविन्द राम शेखसरिया को संस्थापक अध्यक्ष नियुक्त कर बैंक ऑफ राजस्थान की स्थापना कर राजस्थान शब्द का प्रयोग किया था। बाद में बैंक ऑफ राजस्थान का आईसीआईसीआई बैंक में विलय हो गया लोगों का मानना है कि इस बैंक के ऐतिहासिक महत्व का इस बात से पता चलता है कि आजादी के बाद जब देश के प्रथम गृहमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की अध्यक्षता में 14 जनवरी 1949 को आयोजित बैठक में 22 रियासतों के विलय के बाद बने राज्य राजपुताना के स्थान पर ‘राजस्थान’ नाम दिया गया, यह नाम बैंक ऑफ राजस्थान से लिया गया|

आजादी के बाद देश की जनतांत्रिक सरकार ने इस प्रदेश के नामकरण के लिए इसी नाम ‘राजस्थान’ को स्वीकार किया।
जो भी हो पर इतना तय है कि जब भी राजस्थान के नामकरण के इतिहास पर चर्चा होगी कर्नल जेम्स टॉड की भूमिका को याद करते हुए उसका जिक्र अवश्य किया जायेगा।

  • History of word Rajsthan’s etymology
  • kaise hua rajasthan ka namkaran
  • kisne kiya rajasthan namkaran
  • rajsthan nam sarvprtham kisne pryog kiya
  • kya col. Jems tod ne rajasthan ka namakaran kiya tha
  • rajasthan shbd kab kisane pryog kiya
  • history of rajasthan word

Leave a Reply

Your email address will not be published.