फ्लैश वेबसाइट बनाने के सोफ्टवेयर

फ्लैश वेबसाइट बनाने के सोफ्टवेयर

पिछले दिनों जालतंत्र पर वेब साईट बनाने के सोफ्टवेयर खोजते हुए गूगल बाबा ने फ्लैश वेबसाइट बनाने के कुछ बड़े मजेदार सोफ्टवेयर खोज दिए जिनमे a4Desk सोफ्टवेयर फ्लैश वेब साईट बनाने में बड़ा आसान निकला इस सोफ्टवेयर को डाउनलोड कर इंस्टाल करने के बाद रन करते ही एक विण्डो खुलती है जिसमे नई साईट बनाने, पुराने प्रोजेक्ट को एडिट करने के आप्शन मिलते है | नई साईट बनाने का आप्शन सलेक्ट कर क्रेअट बटन दबाते ही ढेर सारे टेम्पलेट के साथ एक विंडो खुलती है मनचाहा टेम्पलेट चुनते ही साईट का प्रीव्यू तैयार है | प्रीव्यू के निचे ही आप्शन में अपनी साईट का नाम,स्लोगन, ई-मेल पता भरने के लिए कॉलम दे रखे है जिनमे नाम व पते टाइप करने साथ ही उपर प्रीव्यू में तुरंत दिखाई देने लगते है | ये सब भरने के बाद साथ ही सभी पेजों के नाम दिए मिलेंगे आप चाहे तो उनका नाम बदल सकते है | और जिस पेज में आपको कुछ लिखना है उस पर क्लिक करते ही निचे बॉक्स खुलता है जिसमे मनचाहे टेक्स्ट लिख सकते है फोटो आदि भी लगा सकतें है फोटो को री-साइज़ करने का आप्शन भी इस सोफ्टवेयर में है जो फोटो फाइल अपलोड करते ही अपने आप री-साइज़ करने के लिए पूछता है |मजे की बात तो इस वेब बिल्डर सोफ्टवेयर में यह है कि जो भी सामग्री हम वेब पेज पर जोड़ते है उसका तुंरत प्रीव्यू दिखता जाता है और साईट प्रोजेक्ट सेव करने बाद इस सोफ्टवेयर अंदर ही बना FTP आप्शन भी है जो इसके द्वारा बनी वेब साईट को वेब-सर्वर पर अपलोड भी कर देता है | इस सोफ्टवेयर का प्रयोग एकदम आसान है इतना आसान कि ज्यादा से ज्यादा एक घंटे में आप अपनी व्यक्तिगत या अपनी कम्पनी की वेब साईट बना कर जालतंत्र पर पुब्लिश भी कर सकतें है
इस सोफ्टवेयर को डाउनलोड करने के लिए यहाँ चटका लगायें

10 Responses to "फ्लैश वेबसाइट बनाने के सोफ्टवेयर"

  1. Udan Tashtari   December 11, 2008 at 3:37 am

    अच्छा प्रतीत होता है..डाउनलोड करके देखते हैं. आपका आभार इस जानकारी के लिए.

    Reply
  2. ranjan   December 11, 2008 at 4:16 am

    धन्यवाद.. आप तो सभी को सिखा दोगे.. ्वेबसाइट बनाना..

    Reply
  3. ताऊ रामपुरिया   December 11, 2008 at 5:03 am

    बहुत उपयुक्त जानकारी है !

    रामराम !

    Reply
  4. संजय बेंगाणी   December 11, 2008 at 5:37 am

    जानकारी का आभार.

    Reply
  5. नरेश सिह राठौङ   December 11, 2008 at 3:05 pm

    धान्यवाद इस जानकारी के लिए,लगता है आपका नया नामकरण टेक गुरू करना पडेगा ।

    Reply
  6. SUNIL KUMAR   March 14, 2010 at 10:29 pm

    ye software kaafi achha hai par kewal iska trial version free hai…….

    Reply
  7. mohit   May 30, 2011 at 7:06 pm

    Nice Software

    Reply
  8. nizamuddin   June 4, 2011 at 8:51 am

    बहूत अछ्छी जानकारी

    Reply
  9. www.securelifeblogspot.com   October 13, 2011 at 6:08 am

    Aapka jawaab nahi… shukriya

    Reply
  10. santosh   November 5, 2011 at 8:15 am

    nice so very much…….thanks

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.