देखिये कपड़े की रंगाई व छपाई केसे होती है

हम रोज नए नए कपड़े अलग-अलग रंगों व डिजाईन में बदल-बदल कर पहनते है आज देखते है कि कपड़े की रंगाई व छपाई केसे होती है
१- इस विडियो में आप जो देख रहें है यह कपड़ा छापने की मशीन है जिसे रोटरी प्रिंटिंग मशीन कहते है इसमे आप जो ये रोल घूमते हुए देख रहे है ये डिजाईन के रोल है जिनमे अलग-अलग कलर फीड होता है जो घूमते हुए डिजाईन के अनुरूप छनकर निचे चल रहे कपड़े पर छपता रहता है और आगे ये छपा हुवा कपड़ा चेंबर में सूखने के बाद एक ट्रोली में इक्कठा हो रहा है जहाँ से इसे अगले प्रोसेस के लिए ले जाया जाएगा |इस मशीन पर यदि एक ही डिजाईन पुरे दिन छापा जाए तो यह लगभग ५०००० मीटर कपड़ा छाप सकती है लेकिन ज्यादातर कारखाने इस मशीन पर २५००० मीटर कपड़ा ही छाप पते है |

…..

२-इस विडियो में आप देख रहे कि इस मशीन की निचे की पेटी में कलर भरा हुवा है जिसमे डूब कर कपड़ा एक तरफ से दूसरी तरफ घूमते हुए लपट रहा है इस मशीन पर लगभग ३००० मीटर कपड़ा भरा है जो लगभग चार दिन तक रंग व अन्य केमिकलों में घुमने के बाद रंगाई पुरी होने पर उतरेगा | इस मशीन को जिगर कहते है जिस पर ज्यादातर कॉटन कपड़े की रंगाई होती है |

३- इस विडियो में आप जो मशीन देख रहे है वह गिले कपड़े को सुखा रही है

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.