37.5 C
Rajasthan
Monday, May 23, 2022

Buy now

spot_img

धरती को भूल कर

धरती को भूल कर
आसमां को निहारने लगा है मानव …
ऊंची उड़ान कि चाहत में
कहीं भटक गया है मानव …

बहुत अफ़सोस,
भूल गया है
अपने साथी संगी को साथ लेना मानव …
टूटने लगे है रिश्ते नाते

कांच के आशियानों में जो रहने लगा है मानव …

अपनों से कुछ बुझा बुझा सा
अब दीवारों से बातें करने लगा है मानव …
खुद में ही कैद रहता है
जैसे खुद को ही सजा सुना रहा है मानव ..

दुनियां की इस दौड़ में
सबको पीछे और खुद को आगे समझने लगा है मानव ..
ऐसा भी क्या गुरूर ?
कि एक दिन खुद से खुद ही दूर हो जायेगा मानव ..

सुश्री राजुल शेखावत

dharti,sky poem,earth sky poem, human

Related Articles

5 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Stay Connected

0FansLike
3,320FollowersFollow
19,600SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles