मयूरधुज गढ़ : मेहरानगढ़ जोधपुर

मयूरधुज गढ़ : मेहरानगढ़ जोधपुर

मूर्धन्य साहित्यकार, इतिहासकार श्री सौभाग्यसिंह शेखावत की कलम से………. जोधपुर रौ किलौ मोरघुज (Mehrangarh) बाजै। मारवाड़ री ख्यातां में इण रौ जलम नांव गढ़ चिंतामणी मिलै। नगर, किला, कोट कमठाणां री नींव-सींव री थरपना चौखा समूरता सूं लागै। किलो, दुरंग नै जीवरखौ जंग-जुद्ध री बिखम बेळा में राजा-रेत रा जीव नै आसरौ देवै। जीव नै […]

जातां जुगां न जाय-मेड़तौ

जातां जुगां न जाय-मेड़तौ

राजस्थानी भाषा साहित्य, संस्कृति अकादमी के पूर्व अध्यक्ष सौभाग्यसिंह जी शेखावत की कलम से ……….. सुतंतरता तांई बरोबर दो पीढ़ियां लड़ता-झगड़ता रहबाळा मेड़तिया साखा रा राठौड़ां रौ मूळ स्थान मेड़तौ (Merta City) राजस्थान रै बीचौ बीच मारवाड़ में पडै़ है। मेड़तौ राजस्थान रा घणां पुराणा नगरां में गिणीजै है। बूढ़ा वडेरा कैवै है कै मेड़ता […]

लोकदेवता वीर तेजोजी

लोकदेवता वीर तेजोजी

Lok Devta Vir Tejaji पर राजस्थानी भाषा के मूर्धन्य साहित्यकार, इतिहासकार श्री सौभाग्यसिंह जी शेखावत की कलम से …………….. ‘इण धरती रा ऊपज्या तीतर नह भाजन्तं’ रा बिड़दावरी मैंमा वाळी राजस्थान री भौम सदा सूं ई आगौलग सूरां पूरां जूझारां री जणैता कहिजै है। राजस्थान रा धोरां टीबां, खाळ-वाळ नै भाखर-डहरां में कुंण जाणै कितरा […]

Invitation न्यूंतौ

Invitation न्यूंतौ

राजस्थानी भाषा के मूर्धन्य साहित्यकार, इतिहासकार श्री सौभाग्यसिंह जी शेखावत की कलम से………… गोठ-धूघरी, ब्याव-सावां, सनेही, भाई-भायलां नै बुलावै उण नै न्यूंतौ (Invitation) कैवै। न्यूंतौ ऊधारी हांती गिणीजै। अदळा रा बदळा कहीजै। न्यूंतौ घर दीठ मिनख, थळी दीठ अेक मिनख रौ नै सीगरियौ भी हुवै। सीग्रै न्यूंतै में तागड़ी-पागड़ी जीमण नै आवै-मिनख अर लुगाई घर […]

चाटू

चाटू

राजस्थानी भाषा के मूर्धन्य साहित्यकार श्री सौभाग्यसिंह जी शेखावत की कलम से …… घणा लोग चाटू (Chatu) नै कोरौ लाकड़ी रौ टुचकलौ, रूख रौ छांग्यौ-छोल्यौ, ठूंठियौ, खाती रा रंदा सूं रांद काटियोड़ौ रसोवड़ा रौ राछ, तरकारी तीवण रौ रमतियौ, हांडी रौ हम्मीर, चूला रौ चांद नै बांठ बोझा खेजड़ी कैर रौ जळमियौ-जायौ इज मानै। उणरा […]

चिणौ

चिणौ

राजस्थानी भाषा के मूर्धन्य साहित्यकार श्री सौभाग्यसिंह शेखावत की कलम से…. आजकाल लोगबाग म्हनै भूंगड़ौ कैवै है। पैली चिणौ कैवता। पण, इण सूं म्हनै किणी रीत-भांत री नाराजगी कोनी। औ प्रक्रति रौ धारौ इज है। समै रै सागै सागै जिण भांत उमर ढळे अर काया में पलटाव आवै उणी भांत नांव भी पलटीजता रैवै। गाय […]

बचन

बचन

म्हांरी नांव बचन है अर कौल नै बोल भी म्हनै कैवै है। म्हांरा पिरवार में म्हांरी सगळां सूं इधकौ आघमांन है। जठै कठैई आपसरी में बैर विरोध, खटपट, झगड़ौ, झांटी नै बोलीचाली व्है जावै तौ मैं बीच में पड़, बीच बचाव कर राड़ नै बुझा नै पाछौ मेळजोळ नै बोलचाल कर देवूं। ई खातर सारौ […]

राजस्थानी भाषा की मान्यता को लेकर साहित्यकार श्री सौभाग्य सिंह जी की चिंता

राजस्थानी भाषा की मान्यता को लेकर साहित्यकार श्री सौभाग्य सिंह जी की चिंता

श्री सौभाग्य सिंह शेखावत राजस्थानी भाषा के मूर्धन्य साहित्यकार है| राजस्थानी भाषा को संविधान की आठवीं सूचि में शामिल नहीं करने व केंद्र सरकार द्वारा मान्यता नहीं देने के पर चिंता व्यक्त करते हुए शेखावत अपनी 1991 में छपी पुस्तक “राजस्थानी साहित्य संस्कृति और इतिहास” में राजस्थानी भाषा की महत्ता व भाषा को मान्यता नहीं […]

मरू -मान

पील ,मीठी पीमस्यां खोखा, सांगर, बेर | मरु धरा सु जूझता खींप झोझरू कैर || जूझ जूझ इण माटी में बन ग्या कई झुंझार । सिर निचे दे सोवता बिन खोल्यां तरवार ॥ ऊँचा रावला कोटड़याँ सिरदारां की पोळ | बैठ्या सामां गरजता मिनखां की रमझोळ ॥ मरुधर का बे मानवी कतरा करां बखाण सर […]

जाड़ो (ठंडा मौसम)

जाड़ो (ठंडा मौसम)

ठरगा भायला जाड़ा म सूरज बड़गो खाडा म पिसा लागै दवायां का और दशमूल का काड़ा में ठरगा भायला जाड़ा म दुबला को बैरी है यो क्यूँ कोण कर ठाडा म ठरगा भायला जाड़ा म टीबा पर चाले आथूणी म्हे बच रिया हाँ आडा म ठरगा भायला जाडा म कई जिनावर बिल म बडग्या कई […]