इसलिए आज भी स्थानीय लोगों द्वारा पूजे जाते हैं सामंत अलखाजी

अलखाजी रियासती काल में शेखावाटी के एक छोटे से जमींदार थे | उनके अधीन महज कुछ गांव ही थे, पर उन्होंने ऐसा क्या किया कि लोग आज भी जगह जगह उनके पगलिये यानी पैरों के निशानों की पूजा करते हैं | इस लेख में आज हम अलखा जी के बारे में जानकारी देंगे और साथ […]

कालजयी बाबा कीनानाथ जी

सत्रहवीं शताब्दी के महान संत सुधारक बाबा कीनानाथ जी का जन्म सन 1684 ई. में वाराणसी जिले के चंदौली तहसील के रामगढ में हुआ था। बचपन से ही बाबा साधना में रूचि रखते थे। इनके पिताजी अकबरसिंह एक प्रतिष्ठित जमींदार थे। इनकी माता का नाम मंशादेवी था जो सिकरवार कुल की कन्या थी। वे हमेशा […]

महन्त बाबा दिग्विजयनाथ, गोरखनाथ मंदिर, गोरखपुर

योगी आदित्यनाथ के उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री चुने जाने के बाद गोरखपुर का गोरक्षनाथ पीठ और वहां के महंतों को जानने की हर किसी में जिज्ञासा बढ़ी है। बहुत कम लोगों को पता है कि इस चर्चित, प्रसिद्ध पीठ पर मेवाड़ के महाराणा प्रताप के भाई के वंश में जन्में एक योगी भी महन्त पद पर […]

जन सेवक जननायक सन्याासी योगी आदित्यनाथ

योगी आदित्यनाथ ने संन्यासियों के प्रचलित मिथक को तोड़ा। धर्मस्थल में बैठकर आराध्य की उपासना करने के स्थान पर आराध्य के द्वारा प्रतिस्थापित सत्य एवं उनकी सन्तानों के उत्थान हेतु एक योगी की भाँति गाँव-गाँव और गली-गली निकल पड़े। भक्तों की एक लम्बी कतार आपके साथ जुड़ती चली गयी। इस अभियान ने एक आन्दोलन का […]

राजर्षि रणसीजी तंवर

नरेना रेल्वे स्टेशन से कस्बे को जो सड़क आती है उस पर सड़क से करीब एक किमी दूरी पर राजर्षि रणसीजी तंवर का मन्दिर बना हुआ है। इस मन्दिर पर प्रतिवर्ष आश्विन शुक्ला द्वितीया को एक विशाल मेले का आयोजन होता है, जिसमें आसपास के गाँवों के हजारों लोग आते हैं। मेला प्रतिवर्ष धूमधाम से […]

शौर्य, भक्ति व कला का संगम महाराजा सावंतसिंह (नागरीदास)

शौर्य, भक्ति कला का संगम महाराजा सावंतसिंह (नागरीदास) वि.स. 1766 (1709 ई.) का एक दिन दिल्ली में बादशाह का एक हाथी बिगड़ कर महावतों के काबू से बाहर हो रास्ते पर दौड़ता चला जा रहा था| लोग हाहाकार मचाते, चिल्लाते रास्ता छोड़कर भाग रहे थे| उसी रास्ते में एक 10 वर्षीय क्षत्रिय बालक बेकाबू हाथी […]

संत रावल मल्लीनाथ जी

Sant Rawal Mallinath Rathore, Malani History in Hindi संत रावल मल्लीनाथ जी राजस्थान की वीर प्रसूता भूमि पर समय समय कई वीर योद्धाओं, संतो, साहित्यकारों, भक्तों ने जन्म लिया. ऐसे ही पश्चिम राजस्थान के मालाणी आँचल में एक ऐसे शासक ने जन्म लिया जिसने अपनी वीरता, शौर्य एवं चातुर्य गुणों का प्रदर्शन कर अपना खोया राज्य […]

संत थानेदार द्वारा दी गई थी सेठ पोद्दार और आईजी यंग को चवन्नी

Sant Thanedar Ramsingh Bhati : संत थानेदार रामसिंह भाटी की ईमानदारी की बात जन-सामान्य तक फ़ैल चुकी थी| तत्कालीन जयपुर राज्य के पुलिस महानिरीक्षक मि. यंग ने भी सुना कि उनकी पुलिस में एक ऐसा थानेदार है जो रिश्वत लेना तो दूर प्याऊ पर पानी भी मुफ्त में नहीं पीता| कहीं मुफ्त में खाना नहीं […]

जब एक थानेदार ने दर्ज की आईजी पुलिस के खिलाफ रपट

Sant Thanedar Ramsingh Bhati : आपने ऐसे कई प्रसंग सुने होंगे कि फलां थानेदार चाहते हुए उपरी दबाव में किसी अपराधी के खिलाफ कार्यवाही नहीं कर पाया| इस देश में आज भी कई थानेदार, पुलिसकर्मी या अन्य विभागों में सरकारी कर्मचारी, अधिकारी है जो ईमानदारी से काम करना चाहते है पर वे ऊपर के विभागीय […]

जब कानून पर भारी पड़ी ईमानदारी

जयपुर की स्टेट चीफ कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश शीतलाप्रसाद वाजपेई का न्यायालय उस दिन खचाखच भरा था, दर्शकों की भारी भीड़ झुंझुनू के नाजिम इकराम हुसैन द्वारा बिना गवाहों के, सिर्फ पुलिस के एक सब इंस्पेक्टर की रपट के आधार पर एक चोर को सुनाई सजा के खिलाफ हो रही सुनवाई को ध्यानपूर्वक सुनने में […]