सदियों पहले इस सामंत ने दिया था दलितों को संरक्षण, दलित आज भी मानते है उसे अपना ईष्टदेव

सदियों पहले इस सामंत ने दिया था दलितों को संरक्षण, दलित आज भी मानते है उसे अपना ईष्टदेव

देश में सत्ता हस्तांतरण जिसे लोग आजादी कहते है के बाद हिन्दू राजाओं द्वारा दलित वर्ग के शोषण का कांग्रेस सहित सेकुलर गैंग ने खूब दुष्प्रचार किया| इस गैंग ने सामन्तवाद नाम का एक शब्द घड़ा और राजाओं की सत्ता से जुड़े हर छोटे-बड़े अंग को सामंत की संज्ञा देकर उनके खिलाफ दुष्प्रचार किया| जबकि वर्तमान […]

जनता उमड़ी पड़ी थी, अपने इस राजा की सुरक्षा के लिए

जनता उमड़ी पड़ी थी, अपने इस राजा की सुरक्षा के लिए

History of Rao Raja kalyansingh of Sikar in Hindi : आजादी के बाद कांग्रेस ने राजस्थान में सत्ता पर अपनी पकड़ मजबूत बनाये रखने के उद्देश्य से राजाओं, जागीरदारों को लोकतान्त्रिक व्यवस्था से दूर रखने की भरसक कोशिश की| नेहरु ने तो राजाओं को चेतावनी भी दी कि राजा चुनावी प्रक्रिया से दूर रहे, वरना […]

इसलिए सम्मान करता था औरंगजेब अपने कट्टर शत्रु वीर दुर्गादास राठौड़ का  

इसलिए सम्मान करता था औरंगजेब अपने कट्टर शत्रु वीर दुर्गादास राठौड़ का  

देश में आज साम्प्रदायिक व जातीय उन्माद चरम सीमा पर है और बढ़ता ही जा रहा है| इतना उन्माद और एक दूसरे के प्रति नफरत तब भी नहीं थी, जब हिन्दू मुस्लिम शासक एक दूसरे के सामने तलवारें ताने खड़े थे, आपस में भयंकर युद्ध लड़ते थे, पर आज वोट बैंक की राजनीति ने साम्प्रदायिक […]

दुश्मन ने बचाया था इस क्षत्रिय राजवंश के वारिस को

दुश्मन ने बचाया था इस क्षत्रिय राजवंश के वारिस को

जैसलमेर के शासक जैतसी के राजकुमारों द्वारा अल्लाउद्दीन खिलजी का अकूत खजाना लूटने के बाद नाराज खिलजी ने नबाब महबूब खान के नेतृत्व में जैसलमेर पर आक्रमण के लिए सेना भेजी| इस सेना ने वर्षों जैसलमेर किले को घेरे रखा| इसी दौरान रावल जैतसी के एक पुत्र रतनसी की दुश्मन सेनापति महबूब खान से मित्रता […]

 ये रानी जाती थी नित्य दलित के घर होने वाले सत्संग में

 ये रानी जाती थी नित्य दलित के घर होने वाले सत्संग में

आजादी के बाद से ही दलितों के साथ छुआछूत को लेकर स्वर्ण जातियां निशाने पर है| पर जब इतिहास उठाकर देखते है तो पता चलता है कि छुआछूत को लेकर जो आरोप लगाए जा रहे है वो सच कम, दुष्प्रचार अधिक है| इतिहास में ऐसे कई प्रसंग मिलेंगे जो साबित करते है कि उस काल […]

ऐसे हुआ था खिलजी की शाहजादी को इस राजपूत से प्यार

ऐसे हुआ था खिलजी की शाहजादी को इस राजपूत से प्यार

अलाउद्दीन खिलजी की शाहजादी फिरोजा ने एक राजपूत राजकुमार से प्यार किया था| पर इस बात को ज्यादातर वामपंथी इतिहासकार नहीं लिखते| लेकिन यह ऐतिहासिक सत्य है कि शाहजादी फिरोजा ने जालौर के कुंवर वीरमदेव से बेपनाह प्यार किया था और वीरमदेव द्वारा शादी का प्रस्ताव ठुकराए जाने के बाद अल्लाउद्दीन ने जालौर पर चढ़ाई […]

इन वीरों के आगे भी भागना पड़ा था खिलजी की सेना को

इन वीरों के आगे भी भागना पड़ा था खिलजी की सेना को

किसी भी शक्तिशाली राजा बादशाह की हार की घटना वाली इतिहास सम्मत बात लोगों को पचती नहीं, खासकर उस राजा, बादशाह आदि के स्वजातीय लोग तो उस घटना को बिना इतिहास पढ़े ही सिरे से ख़ारिज कर देते है| उनकी नजर में उनका नायक तो कभी हार ही नहीं सकता| ऐसा आजकल अलाउद्दीन खिलजी को […]

इस राजा ने खिलजी के सेनापतियों की बीबीयों से बिकवाया था मट्ठा

इस राजा ने खिलजी के सेनापतियों की बीबीयों से बिकवाया था मट्ठा

अलाउद्दीन खिलजी की सेना में कुछ मंगोल सैनिक थे, जिन्होंने गुजरात विजय के दौरान लूटपाट में मिली राशि का 1/5 वां हिस्सा भी खिलजी के सेनापति उलूगखां द्वारा मांगने पर नहीं दिया और अपने सरदार मुहम्मदशाह के नेतृत्व में बगावत कर दी| पहले इन मंगोलों ने खिलजी की सेना के खिलाफ जालौर के कान्हड़देव का […]

पृथ्वीराज चौहान व राजा अनंगपाल तोमर के रिश्ते का सच

पृथ्वीराज चौहान व राजा अनंगपाल तोमर के सम्बन्धों के बारे में आम धारणा है कि दिल्ली के राजा अनंगपाल तोमर पृथ्वीराज चौहान के नाना थे और उनके कोई संतान ना होने के कारण पृथ्वीराज को दिल्ली की गद्दी मिली| यही नहीं कन्नौज नरेश जयचंद को अनंगपाल तोमर का दोहित माना जाता है और दिल्ली की […]

पृथ्वीराज जयचंद की माताओं का बहनें होने का ये है सच

 भारत के अंतिम हिन्दू सम्राट पृथ्वीराज व जयचंद के बारे में प्रचारित है कि वे दोनों दिल्ली के तोमर (तंवर) राजा अनंगपाल के दोहिते थे| यानी दोनों मौसी के बेटे भाई थे और अनंगपाल के संतान ना होने की वजह से दिल्ली राज्य के उत्तराधिकार को लेकर दोनों के मध्य विवाद व दुश्मनी थी| आज […]

1 2 3 7