आओ कॉपी-पेस्ट जैसी महान तकनीकि के सहारे ब्लॉग, किताब लिखें और नोट कमायें

आओ कॉपी-पेस्ट जैसी महान तकनीकि के सहारे ब्लॉग, किताब लिखें और नोट कमायें

जब से इंटरनेट आया है, आसानी से हिंदी लिखने के औजार उपलब्ध हुए है, ब्लॉग लिखने के लिए मुफ्त के प्लेटफ़ॉर्म उपलब्ध हुए है, लेखकों को अपनी लेखनी ब्लॉगस पर प्रकाशित कर अपनी लेखन हुड़क मिटाने का तगड़ा मौका मिला है| इतना ही नहीं सोने पे सुहागा ये कि अब हिंदी ब्लॉगस पर गूगल ने विज्ञापन देना शुरू कर लेखकों को डालर कमाने का शानदार मौका और दे दिया| तो आईये ब्लॉग लिखें और धन कमायें|
चूँकि ब्लॉग लिखना बहुत आसान है, लिखो और प्रकाशित कर दो| खुद ही संपादक, खुद लेखक, खुद प्रकाशक| अब बात आती है कि ब्लॉग पर लिखा क्या जाय? तो इसके लिए आपको ज्यादा दिमाग खपाने की आवश्यकता नहीं क्योंकि इंटरनेट पर इतना लिखा पड़ा है कि पसंद आई सामग्री कॉपी करो और अपने ब्लॉग पर पेस्ट कर दो| उसके बाद उसका लिंक फेसबुक पर शेयर कर वाह वाही लूटो| क्योंकि आपकी मित्र मण्डली को क्या पता कि आपने कॉपी पेस्ट जैसी महान तकनीकि का इस्तेमाल किया है| इस महान तकनीकि को मैंने फेसबुक व ब्लॉगस पर बहुत जगह देखा है कि बन्दे को एक शब्द लिखने की फुर्सत ना मिले लेकिन इधर उधर से कॉपी मारकर खूब वाह वाही लुटता है| तो आप भी क्यों ना इस महान कॉपी पेस्ट तकनीकि का फायदा उठा बतौर लेखक अपना नाम रोशन करें| वैसे भी आजकल काम करने का स्मार्ट तरीका काम लिया जाता है| मेहनत करने वाले तो गधे कहे जाते है, सो क्यों खाम खां की बोर्ड खटखटाया जाय, जब इतनी महान तकनीकि उपलब्ध है|

इस महान तकनीकि से सिर्फ ब्लॉग लेखक बन वाह वाही ही नहीं, पुस्तक लेखक बनकर भी बिना मेहनत किये वाह-वाही लुटने के साथ धन भी कमाया जा सकता है| इसके लिए पहले फेसबुक पर प्रचार शुरू कर दो कि मैं पुस्तक लेखन के लिए आजकल बहुत बड़ा शोध कर रहा हूँ और उसमें इतना व्यस्त हूँ कि सिर्फ फेसबुक स्टेटस लिखने के लिए ही समय निकाल पाता हूँ| बस इतना करने भर से ही आपको वाह-वाही मिलने लगेगी, कई मित्र आपके इस कार्य को महान कार्य बताते हुए लाइक के साथ टिप्पणी भी कर जायेंगे| सिर्फ लाइक और टिप्पणियाँ ही क्यों? हो सकता है फेसबुक पर मौजूद आपके समाज का कोई धनी व्यक्ति भी आपके इस कार्य को पुनीत कार्य समझ आपके खाते में आपकी मनचाही रकम जमा करा दे| इस तरह नाम, वाह-वाही के साथ धन का भी तगड़ा जुगाड़|

जब कोई धन की व्यवस्था हो जाए तब आपको इतना ही शोध करना है कि कौनसी सामग्री किस ब्लॉग से उड़ानी है, यानी आपको वे ब्लॉग तलाशने है जिन पर आपकी जरुरत की सामग्री भरी पड़ी है| इस तरह के ब्लॉग तलाशने को भी आप शोध का दर्जा दे सकते है आखिर उनको तलाशना भी तो किसी शोध से कम नहीं| इस तरह कॉपी पेस्ट जैसी महान तकनीकि के सहारे आप एक छोटी-मोटी पुस्तक के लायक सामग्री कबाड़ लीजिये| यदि आपको कोई विषय नहीं सूझे तो सबसे बड़ा विषय है अपने ही समाज से संबंधित पुस्तक| आप प्रचारित कर सकते है कि आपके समाज का आजतक जिन लेखकों ने इतिहास लिखा था उन्होंने आपके समाज के प्रति दुर्भावनाओं व पूर्वाग्रह से ग्रस्त होकर गलत लिखा और अब आप उसे ठीक व सही तरीके से लिखने का महान कार्य कर समाज का खोया गौरव लौटाने की कोशिश कर रहे है|

आपके इस तरह के डायलोग पढने के बाद समाज के कई संगठन आपके सहयोग के लिए आगे आ जायेंगे क्योंकि वे भी अपनी समाज सेवा में अक्सर ऐसा वादा करते रहते है पर वादा पूरा नहीं कर पाते, सो उन्हें भी आपके रूप में तारणहार मिल जायेगा| आपकी पुस्तक के बहाने आपसे जुड़े संगठन भी आपकी पुस्तक को अपनी महान उपलब्धि बताते हुए उसका प्रचार-प्रसार कर देंगे| इस तरह आपको सामाजिक भावनाओं का दोहन कर अपनी पुस्तक की धाक ज़माने में बड़ी आसानी होगी|

तो फिर इस महान तकनीकि को अपनाकर हो जाईये शुरू और बन जाईये ब्लॉग व पुस्तक लेखक, साथ कमाईये मोटा धन और सामाजिक प्रतिष्ठा|

5 Responses to "आओ कॉपी-पेस्ट जैसी महान तकनीकि के सहारे ब्लॉग, किताब लिखें और नोट कमायें"

  1. Gangasingh Bhayal   January 11, 2015 at 5:01 pm

    हा हा हा सही बात कही हुकम
    जिनको विद्यार्थी जीवन में शब्दों सही उच्चारण लिखना नही आता था वे भी आज महानलेखक बन बैठे है 😉

    Reply
  2. Gangasingh Bhayal   January 11, 2015 at 5:04 pm

    हा हा हा सही कहा हुकम

    Reply
  3. Ravishankar Shrivastava   January 12, 2015 at 5:56 am

    🙂

    Reply
  4. HARSHVARDHAN   January 13, 2015 at 4:06 pm

    कॉपी-पेस्ट जैसी लेखन तकनीक अपने जैसों के लिए नहीं है!! सादर।

    नई कड़ियाँ :- क्या आप जानते है कि हम फोन करते हुए हैलो (Hello) ही क्यों कहते हैं?"

    टेलीग्राम मैसेंजर – क्लाउड आधारित मुफ्त मैसेजिंग एप

    Reply
  5. dilip singh charan   February 18, 2015 at 4:38 pm

    हाहाहा सही फ़रमाया हुकुम । परन्तु इस तरह का काम करके मन को शान्ति नही मिलती ।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.