हठीलो राजस्थान-24

रण तज घव चांटो करै,
झेली झाटी एम ||
डाटी दे , धण सिर दियो,
काटी बेडी प्रेम ||१४२||

कायर पति रण-क्षेत्र से भाग खड़ा हुआ | इस पर उसकी वीर पत्नी ने उसे घर में न घुसने देने के लिए किवाड़ बंद कर दिए तथा पहले तो पति को कायरता के लिए धिक्कारा व बाद में अपना सिर काट कर पति को दे दिया | इस प्रकार उस कायर पति के साथ जो प्रेम की बेड़ियाँ पड़ी हुई थी उनको उस वीरांगना ने हमेशा के लिए काट दिया |

रण लाडो बण भड खडो,
सह गण भेज्या ईस |
रिपु धण भेजी राखडी,
निज धण भेज्यो सीस ||१४३||

युद्ध क्षेत्र में जाने के लिए शूरवीर दुल्हे के समान सज कर खड़ा हुआ है | भगवान शिव ने अपने समस्त गणों को उसका युद्ध कौशल देखने के लिए भेजा | शत्रु की पत्नी ने उसे मोह पाश में फंसाने के उद्देश्य से मंगल सूत्र भेजा | और उसकी खुद की पत्नी ने पति को मोह पाश से मुक्त करने के लिए अपना सिर काट कर पति के पास के भिजवा दिया |

काटण मारग अरि कटक,
खाटक खडियो खेंट |
हाटक थालां रींझ धण,
भेज्यो माथो भेंट ||१४४||

शत्रु की सेना को अपनी तलवार से चीरते हुए उस वीर ने उसी के बीच अपना मार्ग बना लिया | उसकी इस अदभुत वीरता पर रींझकर वीरांगना (पत्नी) ने अपना मस्तक काटकर सोने के थाल में उसके पास भेंट स्वरुप भेज दिया |

बाँधी पाल कुल काण री,
प्रण बांध्यो ,मन टीस |
सिर बांध्यो जस सेहरो,
उर बंध्यो धण सीस ||१४५||

शूरवीर कुल मर्यादा की परम्परा को रक्षित कर ऐसे शोभायमान हो रहा था जैसे सिर पर सेहरा बाँध रखा हो | कर्तव्य पालन के लिए हृदय में उत्पन्न होने वाली पीड़ा व उसकी दृढ प्रतिज्ञा ऐसे शोभायमान हो रही थी जैसे उसने अपनी पत्नी के काट कर दिए हुए मस्तक को बाँध कर हृदय पर लटका लिया हो |

मुण्ड कट्यां भी रुण्ड लडै,
खग बावै कर रीस |
मग्ग दिखावै मोड़ सूँ,
उर बंधियो धण-सीस ||१४६||

मस्तक कट जाने के बाद भी उस वीर का कबंध क्रुद्ध होकर तलवार बजा रहा है | उसकी वीर पत्नी का कटा हुआ मस्तक ,जो उसने गले में बाँध रखा है ,उसे चाव से मार्ग दिखाता जा रहा है |

हूँ लाजूं रण भाजता,
लाजै इण धर माथ |
चूड़ो धण ,पय मात रो,
लाजै हेकण साथ ||१४७||

युद्ध क्षेत्र से भागने पर न केवल मैं लज्जित होता हूँ बल्कि इस धरती का मस्तक भी लज्जा से झुक जाता है | इतना ही नहीं ,पत्नी का चूड़ा व माता का दूध भी एक साथ लज्जित होता है |

स्व.आयुवानसिंह शेखावत

Leave a Reply

Your email address will not be published.