हठीलो राजस्थान-17

हठीलो राजस्थान-17

गूद गटककै गोधणयां, हड्ड चटककै स्याल |
बूथ बटककै बैरियाँ, मंडै रण मतवाल ||९४||

जब रण के मतवाले शूरवीर क्रुद्ध होकर युद्ध करते है,तो उनके द्वारा किए गए प्रचंड नर-संहार से युद्ध-भूमि धडों व सिरों से भर जाती है | यहाँ विचरण करने वाली गिधनियाँ तृप्त होकर मांस गटकती है तथा सियार हड्डियाँ चटकते हुए छककर शत्रुओं की बोटियाँ बटकते है |

सीस फुदककै किम सखी, कमध धमककै खाग |
अरि भालै आराण में, रिंझे सिन्धु राग ||९५||

हे सखी ! रण-भूमि में वीर का ये कटा हुआ मस्तक कैसे फुदक रहा है व इसका ये धड किस कारण से तलवार चलाने में समर्थ है ?
सखी उत्तर देती है – यह कटा हुआ सिर उछल-उछल कर युद्ध क्षेत्र में दुश्मनों को देख रहा है व रण-वाद्यों के द्वारा जो सिन्धु राग गाई जा रही है ,उससे हो रहे वीर रस के संचार से ये धड बिना मस्तक के ही तलवार चलाने में समर्थ है |

सीस धरा धड पागडै, हय खुँदै होदांह |
लोहो नलां , खागां गलां , नाचै कर मोदांह ||९६||

युद्ध करते हुए वीर का मस्तक कट के धरा पर गिर पड़ा किन्तु धड यथावत घोड़े पर सवार है ,पैर पगाडों में है व घोड़े के अगले पैर,हाथी के मस्तक पर जा टिके है | सिर कटे हुए शूरवीर ने होदे में बैठे शत्रु पर तलवार से प्रहार किया है ,तलवार शत्रु की गर्दन पर जाकर लगी है जिससे खून का नाला बह चला है | इससे प्रफुल्लित होकर घोड़े पर सवार वीर का धड प्रसन्नता से नाच रहा है |

नान्हा गीगा-गीगली, जामण, कामण गेह |
भड बाल्या निज हाथ सूं, करतब ऊँचो नेह ||१०६||

जौहर के अवसर पर दूध-मुहें बच्चों,निज जननी तथा अपनी भार्या को अग्नि की लपटों के समर्पित कर वीरों ने यह सिद्ध कर दिया है,कि कर्तव्य प्रेम से भी बड़ा होता है |

कुटम कबिलौ आपरौ , सह पालै संसार |
भड बालै करतब तणों, क्षात्र धर्म बलिहार ||१०७||

अपने परिवार का पालन पोषण तो सारा संसार ही करता है ,परन्तु वीर तो कर्तव्य की वेदी पर अपने परिवार को भी झोंक देता है | निश्चय ही हम इस क्षात्र धर्म पर बलिहारी है |

सूत केसरिया धुज गही, धब केसरिया भेह |
धण केसरिया आग में ,बाली केसर देह ||१०८||

पुत्र ने केशरियां ध्वज ग्रहण किया तथा पति ने केशरिया वेश | उधर वीर पत्नी ने भी अपनी केशर सी काया को केशरिया आग की लपटों में झोंक दिया |

स्व.आयुवानसिंह शेखावत

Leave a Reply

Your email address will not be published.