मोदी से पहले इस महाराजा ने चलाया था स्वच्छता अभियान

स्वच्छता अभियान को लेकर देश के सभी अख़बारों, न्यूज चैनलों में चर्चाएँ व बड़े बड़े विज्ञापन दिखने आम है|  लेकिन क्या आपको पता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वच्छता अभियान चलाने वाले पहले व्यक्ति नहीं है| मोदी से पहले भी इस देश में स्वच्छता अभियान चले है|  जयपुर में वर्षों पहले तत्कालीन रियासती सरकार द्वारा भी स्वच्छता अभियान चलाया गया था| जयपुर के महाराजा सवाई रामसिंह जी के प्रधानमंत्री रहे नायला ठाकुर फ़तेहसिंह जी ने अपनी पुस्तक “ए ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ़ जयपुर” में इस अभियान की विस्तृत जानकारी दी है| उन्होंने लिखा है कि जय निवास उद्यान में कचरे के ढेर लगे थे, मवेशी वहां खुलेआम घूमते थे, पास ही राज्य के ऊँटों को रखने का स्थान भी था| उसकी वजह से भी गंदगी होती थी| जलेब चौक की स्थिति और भी ख़राब थी| आतिश अस्तबल घोड़ों की लीद से भरा पड़ा था| शहर में और भी कई जगह गंदगी फैली हुई थी|

महाराजा के आदेश के बाद जय निवास उद्यान को घुमंतू लोगों से अतिक्रमण से मुक्त करवाकर सफाई करवाई गई| ऊँटों को घाट गेट से बाहर रखने के आदेश दिए गए| उद्यान के चौकीदार बदल दिए गए| उद्यान को साफ़ सुथरा कर पत्थरों के रास्ते बनवाये गए| जलेब चौक का भी कूड़ा-कचरा उठवाकर उसे साफ़ किया गया| उसके पास बने भवनों की मरम्मत करवाकर उन पर रंग रोगन करवाया गया| फर्श का लेवल ठीक कराकर उस क्षेत्र में पक्की सड़कें बनवाई गई| राज्य के सभी न्यायालय चौक में एक जगह लाये गए| उनके सामने लोगों की सुविधा के लिए हिंदी, उर्दू, अंग्रेजी ने नाम लिखवाये गए| इस भूभाग पर पहले वर्षा का पानी एकत्र हो जाता था| जिससे मच्छर पैदा होते थे| यहाँ का कूड़ा कचरा उठाकर राजामल के तालाब में डाला गया|

अस्तबल की सारी लीद उठवाकर दूर फिंकवाई गई| घोड़ों की भली प्रकार से देखरेख के लिए जिम्मेदार बाबू, चौकीदार बदले गए| इस तरह शहर की अन्य जगहों पर भी सफाई की गई| यह एक तरह का रियासती सरकार द्वारा आयोजित स्वच्छता अभियान ही था|  इस अभियान की जानकारी के बाद यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी कि स्वच्छता अभियान चलाने वाले हमारे प्रधानमंत्री पहले व्यक्ति नहीं है, पहले भी समय समय पर स्वच्छता अभियान चले है|

One Response to "मोदी से पहले इस महाराजा ने चलाया था स्वच्छता अभियान"

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.