29.7 C
Rajasthan
Wednesday, June 29, 2022

Buy now

spot_img

सुधर जा वरना अठन्नी कर दूंगा

एक बनिया अपने इकलौते पुत्र से बहुत दुखी था | लड़का न तो दुकान पर कार्य करता न पढाई बस सारा दिन फिल्मे,टी .वी देखने व अपने दोस्तों के साथ मटरगस्ती करने में ही समय जाया करता था | बनिए द्वारा धमकाने व समझाने का उस पर कोई असर नहीं होता था | एक दिन जब ताऊ बनिए की दुकान पर खरीददारी करने पहुंचा तो बनिए ने अपना दुखडा रोते हुए ताऊ से अपने लड़के को सही रास्ते पर ला सुधारने का उपाय बताने का आग्रह किया | अब ताऊ तो ठहरा ताऊ | अपना ताऊ तो अच्छो-अच्छो को सुधार दे यह तो सिर्फ बच्चा था | सो अपने कई आइडियों में से ताऊ ने एक आइडिया बनिए को कान में चुपचाप बता दिया | और अगले हफ्ते गांव से फिर आकर मिलने के वादे के साथ अपने गांव चला गया |

अब बनिया अपने पुत्र द्वारा कहा नहीं मानने पर पुत्र को धमकाने लगा कि ” बेटे सुधर जा वरना अठन्नी कर दूंगा ” | इस अपनी प्रकार की नई धमकी का मतलब बनिए पुत्र को समझ नहीं आ रहा था | अतः परेशान बनिए पुत्र ने इस धमकी का अर्थ अपने कई पडौसी दूकानदारों से भी पूछा लेकिन कोई नहीं बता सका कि नहीं सुधरने पर बनिया अठन्नी कैसे कर देगा और इसका पुत्र पर क्या असर पड़ेगा | और यही बात सोच लड़का भी परेशान कि बापू मेरे न सुधारने पर अठन्नी कैसे कर देगा और इसका मुझे क्या व कैसे नुकसान पहुंचेगा |

अगले हफ्ते ताऊ को दुकान की तरफ आते देख बनिया पुत्र दौड़ कर ताऊ के पास पहुंचा और पैर छूने के बाद बाप द्वारा दी गई धमकी ” सुधर जा वरना अठन्नी कर दूंगा’ बता इसका मतलब समझाने का आग्रह किया |

ताऊ तो इसी बात के इंतजार में ही था और आज तो शहर आया भी इसी मकसद से था सो ताऊ ने बनिए पुत्र को अठन्नी करने का मतलब इस तरह समझाया |

ताऊ – अरे छोरे अभी तो तू अपने बाप का इकलौता पुत्र है और उसकी संपत्ति का इकलौता वारिश | यदि तू अपने बाप का कहा नहीं मानेगा व उसके कामो में हाथ नहीं बटाएगा तो वो एक और पुत्र पैदा कर लेगा जो तेरे बाप की उस सम्पत्ति का आधा हकदार होगा जिसका अभी तक तू अकेला वारिश है | यानि तुझे रुपए में से सिर्फ अठन्नी मिलेगी |

ताऊ की बताई परिभाषा अब बनिया पुत्र समझ चूका था और चुपचाप दुकान पर बाप की इच्छानुसार मन लगा कर काम करने लगा |

Related Articles

27 COMMENTS

  1. नमस्कार साहब,
    समस्या ब्लाग पर लोगों के आने या न आने की नहीं है। समस्या है लोगों के रचनात्मक रूप से न जुड़ने की। हम चाहते हैं कि लोग अधिक से अधिक अपनी रचनायें भेजें। इसलिए यह सब करना पड़ रहा था।
    फिलहाल आपके आने का शुक्रिया…

  2. बहुत सुन्दर है हमरे बुज़ुरग हमेशा हमे दिल्चस्प तरीके से समझाते थे बहुत अच्छी रचना आभार्

  3. रतन जी मैं आपका ब्‍लॉग हमेशा पढती हूं। मैंने अभी अभी अपना ब्‍लॉग भी बनाया है। कृपया बताने का कष्‍ट करें कि मैं उसका ट्राफिक कैसे बढा सकती हूं। मेरा ईमेल है katkiduniya@gmail.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Stay Connected

0FansLike
3,369FollowersFollow
19,800SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles