‘संस्कृति की डब्बी : कुंवर अमित सिंह

‘संस्कृति की डब्बी : कुंवर अमित सिंह

माता कब की ”ममी” बना दी,
पिता को बना डाला ”डेड”
छोड़ छाड़ के सादी रोटी,
खुश रहते सब खाकर ”ब्रेड”
.

भाई बन गए कब के ”ब्रो”
बहन हो चुकी अब ”सिस”
संस्कारों की तो पूछो ही मत,
जाने कहाँ हो रहे ”मिस”

ताई ,चाची, बुआ, मामी ,
सभी बन गई ”आंटी”
ताऊ, चाचा, फूफा, मामा, के
गले में पड़ी ”अंकल” की घंटी.

यार दोस्त भी अब तो बन बैठे हैं सारे ”ड्यूड”
माँ-बाप अगर टोकें, बालक बोलें होकर ”रयुड”
बच्चों को अब नहीं पसंद पुराना ”पैजामा”
वाट्ज- अप बोलें भूल गए ”रामा-रामा”.

अंग्रेज तो चले गए यहाँ से कब के,
छोड़ गए अपनी संस्कृति की ”डब्बी”
बस अब और सहा नहीं जाता ”अमित”
अच्छे भले पति को जब बोलें ”हब्बी”…….

8 Responses to "‘संस्कृति की डब्बी : कुंवर अमित सिंह"

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.