विरह गीत “पिपली”

प्राचीन काल में राजस्थान में जीविकोपार्जन की स्थितियां बहुत दुरूह और कठिन थी | पुरुषों को बेहतर कमाई के लिए नौकरी या व्यापार के लिए दुसरे प्रान्तों में बहुत दूर जाना होता था या फ़िर फौज की नोकरी में | यातायात व संचार के साधनों की कमी के आभाव में आना-जाना व संदेश भेजना भी कठिन था | एक प्रवास भी कई बार ३-४ वर्ष का हो जाता था कभी कभी प्रवास के समय की लम्बाई सहनशक्ति की सीमाएं पार कर देती थी, तब विरह में तड़पती नारी मन की भावनाएं गीतों के बहने फूट पड़ती थी | पुरूष भी इन गीतों में डूब कर पत्नी की वियोग व्यथा अनुभव करते थे | इस तरह के राजस्थान में अनेक काव्य गीत प्रचलित है | वीणा कैसेट द्वारा प्रस्तुत यह विरह गीत ” पीपली ” वियोग श्रंगार के गीत का काव्य सोष्ठव अनूठा है और धुनें भावों को प्रकट करने में सक्षम है | यह गीत “पिपली ” लंबा मर्मस्पर्शी राजस्थानी विरह गीत है जिसमे पुरूष की धनलिप्सा से आहत नारी मन का करुण क्रन्दन है | इसमे वर्णित बारह महीनों की व्यथा के चित्रण को अलग-अलग करके उमराव के रूप में प्रचलित पारम्परिक बारहमासा के रूप में दिया गया है यह गीत प्रवासी समाज की भावनाओं के केन्द्र में रहा है |

Powered by eSnips.com

10 Responses to "विरह गीत “पिपली”"

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.