विधायक बाबूसिंह के बयान पर रोष व्यक्त करने वालो ये भी जान लो

विधायक बाबूसिंह के बयान पर रोष व्यक्त करने वालो ये भी जान लो

शेरगढ़ के  विधायक बाबूसिंह राठौड़ के जाट जाति पर एक बयान को लेकर जाट युवाओं में काफी रोष है| विधायक बाबूसिंह राठौड़ का बयान निंदनीय है, उन्हें ऐसा शर्मनाक बयान नहीं देना चाहिए| कथित बयान में विधायक बाबूसिंह राठौड़ ने अपने विरोधी जाटों को पाकिस्तानी बता दिया| राठौड़ के इस तरह के बयान का कोई भी समझदार व्यक्ति समर्थन नहीं करेगा| इस देश में कांग्रेसी होना कोई पाप नहीं है| देश की आजादी के लिए कांग्रेस ने जो भूमिका निभाई वो जगजाहिर है, ऐसे में किसी भी कांग्रेसी को देशद्रोही या पाकिस्तानी कहना घोर निंदनीय है| ज्ञान दर्पण टीम इस तरह के बयान को गैर जिम्मेदाराना मानती है|

लेकिन विधायक बाबूसिंह राठौड़ के बयान के विरोध में सबसे ज्यादा मुखर खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल के समर्थक हैं| आपको बता दें इन्हीं बेनीवाल समर्थकों ने सामराऊ गांव के निर्दोष ग्रामीणों के घर जलाए थे| उन निर्दोष ग्रामीणों का दोष सिर्फ यही था कि वे जाति से राजपूत थे| विधायक राठौड़ के बयान पर आक्रोशित होने वाले बेनीवाल समर्थक यही जाट युवा सामराऊ पर गर्व करते नहीं थकते थे या फिर चुप थे| आज जब हनुमान बेनीवाल की तर्ज पर विधायक राठौड़ ने जातीय लामबंदी का कार्ड खेला तो इनके पेट में मरोड़ उठ रही है| ये घनघोर जातिवादी लोग ये क्यों नहीं समझते कि जो खेल तुम्हारे नेता आजादी के बाद खेलते आये हैं, जो भाषा तुम्हारे नेता आजादी के बाद से इस्तेमाल करते आये हैं, आज वही भाषा किसी राजपूत नेता ने बोल ली, तो तुम्हें मरोड़ उठ गई|

बुजुर्ग लोग बताते हैं कि आजादी के बाद जाट जाति के स्वघोषित किसान नेताओं की तो राजनीति ही राजपूतों को गालियाँ देने से चलती थी| पता नहीं कितने चुनाव उन कथित किसान नेताओं ने राजपूतों को गरियाकर ही जीते| आज जब किसी राजपूत ने अपने विरोधी लोगों को पाकिस्तानी समझने की बात कह दी, तो वे झल्ला उठे| ऐसे लोगों को पहले अपने, अपने नेताओं की गिरेबान में झांकना चाहिए| आज विधायक राठौड़ ने ऐसी टिप्पणी की है कल तुम्हारे नेताओं के बयानों पर प्रतिक्रिया देते हुए कोई और राजपूत या अन्य जाति का नेता उन्हीं की तर्ज पर जातीय टिप्पणियाँ करेगा, तब आपको और ज्यादा बुरा लगेगा| यदि इनसे बचना है तो साफ़ है पहले दूसरों पर जातीय टिप्पणियाँ करना, उनके खिलाफ विषवमन करने वाले अपने नेताओं के बयानों पर लगाम लगावो, दूसरे अपने आप सुधर जायेंगे या फिर उन्हें ऐसा करने की जरुरत ही नहीं पड़ेगी|

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.