लिनक्स के साथ मेरा अनुभव

शनिवार को अपने कंप्युटर में उबुन्टु लिनक्स इंस्टाल करने के बाद से लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम इस्तेमाल कर रहा हूँ इससे पहले बड़ी हिचक थी कि पता नही लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम कैसे चलता होगा कही इसे इंस्टाल करने के बाद न चला सकूँ और अपनी विण्डो भी ख़राब कर बेठुं, लेकिन ये उबुन्टु लिनक्स भी बड़ा आसान निकला विण्डो एक्सपी से भी इस्तेमाल में आसान |
न इंस्टालेशन में कोई दिक्कत आई और न ही इसके इस्तेमाल में | मजे की बात है कि मैंने लिनक्स अपने कंप्युटर के F Drive इंस्टाल किया है जिससे मेरा विण्डो ऑपरेटिंग सिस्टम भी जस का तस है उसे भी जब मन करे इस्तेमाल कर सकता हूँ | जब भी कंप्यूटर ऑन करता हूँ मेरे सामने विण्डो एक्सपी और उबुन्टु लिनक्स चलाने के दोनों आप्शन आते है जिसे इस्तेमाल करना हो उसी को चुन लो मतलब कि आप दोनों ऑपरेटिंग सिस्टम अपने कंप्युटर में रख सकते है और जब जी चाहे मन पसंद ऑपरेटिंग सिस्टम इस्तेमाल करलो |
और हाँ लिनक्स इंस्टालेशन के बाद डिस्पले,ऑडियो,ब्लूटूथ आदि किसी के भी ड्राईवर की भी जरुरत नही पड़ती ये सब उबुन्टु लिनक्स में पहले से मौजूद है जबकि विण्डो एक्सपी इंस्टाल करने के बाद इन सब को अलग से इंस्टाल करना पड़ता है यदि कंप्युटर के मदर बोर्ड की सी डी न हो तो इन ड्राईवर को डालने में बड़ी दिक्कत हो जाती है
इसके अलावा भी लिनक्स में बहुत सारी चीजें है जो विण्डो एक्सपी में नही है और उन्हें अलग से इंस्टाल करनी पड़ती है मसलन
१- माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस एक्सपी में अलग से इंस्टाल करना पड़ता है जबकि लिनक्स में ओपन ऑफिस.ओ आर जी पहले से ही मौजूद है जिसमे माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस में वर्ड,एक्सेल व पावरपॉइंट की जगह रायटर,स्प्रेडसीट और प्रजेंटेशन तीनो मौजूद है |
२-फोटो शॉप भी एक्सपी में अलग से डालना पड़ता है जबकि लिनक्स में GIMP Image Editor पहले से साथ है |
३- Nero जेसे सी डी राइट करने के सोफ्टवेयर की जगह भी लिनक्स में Brasero Disk Burning सोफ्टवेयर पहले से ही मौजूद है इन्हे अलग से इंस्टाल करने की कोई जरुरत नही |
४- इन्टरनेट चलाने हेतु फायर फॉक्स, आउट लुक की जगह Evolution Mail, फोटो एडिट करने लिए Fspot Photo Manger, Paint की जगह ओपन ऑफिस का Drawing भी मौजूद है इसके अलावा वे सभी सुविधाए मौजूद है जो हमें विण्डो एक्सपी में मिलती है जिन्हें लिखना बहुत लंबा हो जाएगा |
कुल मिलाकर लिनक्स में ऐसे कई सोफ्टवेयर पहले से ही मौजूद है जबकि विण्डो एक्सपी में इन्ही कामों के लिए अलग सोफ्टवेयर लाकर इंस्टाल करने पड़ते है |
और हाँ उबंटू में एक और प्रोग्राम पिडगिन इन्टरनेट मेसेंजर भी मिला जिसके द्वारा में याहू , एमएसएन, जीमेल आदि साइट्स पर ऑनलाइन अपने दोस्तों से चेट कर सकता हूँ इसके लिए मुझे अलग-अलग मेसेंजर डाउनलोड कर इंस्टाल करने की भी जरुरत नही है | कुल मिलाकर मुझे तो लिनक्स इस्तेमाल करने में बहुत आसान लगा यदि आप भी इसे ट्राई करना चाहते है तो यहाँ चटका लगाकर इसे डाउनलोड कर सकते है या फ़िर यहाँ चटका लगाकर उबुन्टु लिनक्स की फ्री सी डी मंगवाने का अनुरोध भेज सकते है | जब मेरे जैसा नॉन टेक्नीकल आदमी भी लिनक्स आसानी से इंस्टाल कर इस्तेमाल कर सकता है तो आप क्यों नही ! और हाँ इस्तेमाल में कोई छोटी-मोटी दिक्कत आए तो उनके समाधान के लिए हमारे हिन्दी चिट्टाजगत में कई सारे तकनीकी धुरंधर बैठे ही ह ना !

17 Responses to "लिनक्स के साथ मेरा अनुभव"

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.