राजिया रा सौरठा -6

कवि कृपाराम जी द्वारा लिखित नीति सम्बन्धी राजिया के दोहा भाग -6

नहचै रहौ निसंक,मत कीजै चळ विचळ मन |
ऐ विधना रा अंक,राई घटै न राजिया ||

निश्चय्पुर्वक नि:शंक रहो और मन को चल विचल मत करो,क्योकि विधाता ने भाग्य मे जो अंक लिख दिये है, हे राजिया ! वे राई भर भी नही घटेंगे |

सुधहिणा सिरदार,मतहीणा मांनै मिनख |
अस आंघौ असवार , रांम रुखाळौ राजिया ||

जो सरदार खुद तो सुध-बुध खोये रहता है और बुद्धिहिनो को अपना विश्वस्त बनाते है; अन्धे घोडे और अन्धे सवार की भांति ऐसे लोगो का भगवान ही रक्षक है|

भावै नहींज भात, विंजण लगै विडावणा |
रीरावे दिन रात, रोट्या बदळै राजिया ||

जिन लोगो को कभी भात अच्छा नही लगता और मीठे व्यंजन भी अरुचिकर लगते है, वे ही लोग समय के फ़ेर से रोटियों के लिये भी दिन-रात गिडगिडाने लगते है |

कूडा निजल कपूत, हियाफ़ूट ढांढा असल |
इसडा पूत अऊत, रांड जिणै क्यों राजिया ||

जो झूंठे होते है,निर्लज है, जिनकी ह्र्दय की आंखे फ़ूटी हुई है जो वस्तुत: पशु तुल्य है ऐसे कुपुत्र को स्त्री जन्म ही क्यों देती है |

चालै जठै चलंन, अण चलियां आवै नही |
दुनियां मे दरसंत, रीस सूं लोचन राजिया ||

जहां क्रोध चलता है,वहीं पर क्रोध आता है | जहां क्रोध का वश न चले, वहां आता ही नही | हे राजिया ! ऐसा लगता है मानो क्रोध के सूनेत्र है, जो वस्तु-स्थिति को सहज ही भांप लेते है |

सबळा संपट पाट, करता नह राखै कसर |
निबळां एक निराट , राज तणौ बळ राजिया ||

बलवान व्यक्ति लोगो मे उत्पात एवं उखाड-पछाड करने मे कोई कसर नहीं रखते,अतः निर्बलों के लिए तो एक मात्र राज्य सरकार का बल ( सरंक्षण ) ही होता है |

प्रभुता मेरु प्रमांण, आप रहै रजकण इसा |
जिके पुरुष धन जांण , रविमंडळ राजिया ||

जिनकी प्रभुता तो पर्वत-समान महान है,किन्तु जो स्वयं को रज-कण के समान तुच्छ समझते है, वे ही पुरुष संसार मे धन्य है |

लावां तीतर लार, हर कोई हाका करै |
सीहां तणी सिकार, रमणी मुसकल राजिया ||

लावा और तीतर जैसे पक्षियों के पीछे तो हर कोई व्यक्ति हो-हल्ला करता हुआ धावा बोल देता है, किन्तु हे राजिया सिहों का शिकार खेलना बहुत मुश्किल है | ( शक्तिशाली से टक्कर लेना बहुत मुश्किल होता है )

मतळब बिना री मनवार , नैंत जिमावै चूरमा |
बिन मतळ्ब मनवार , राब न पावै राजिया ||

अपना मतलब सिद्ध करने के लिये तो लोग न्योता देकर मनुहार के साथ चूरमा (मधुर व्यंजन) खिलाते है, किन्तु बिना मतलब के कोई राबडी भी नहीं पिलाता |

मूसा नै मंजार, हित कर बैठा हेकठा |
सह जाणै संसार ,रस न रह्सी राजिया ||

चुहा और बिल्ली प्रेम का दिखावा कर भले ही एक जगह बैठे हो, किन्तु सारी दुनिया जानती है कि इनका यह प्रेम स्थाई नही रह सकता | (ठीक हमारे यहां के राजनैतिक दलों के गठबंधन की तरह )

मन सूं झगडै मौर, पैला सूं झगडै पछै |
त्यांरा घटै न तौर , राज कचेडी राजिया ||

जो लोग तर्क-वितर्क द्वारा पहले अपने मन से झगड लेते है और बाद मे दुसरो से झगडा करते है, हे राजिया उनका रुतबा राज्य की कचहरी मे भी कम नही होता |

सांम धरम धर साच , चाकर जेही चालसी |
ऊनीं ज्यांनै आंच, रती न आवै राजिया ||

जो सेवक स्वामिभक्ति एवं सत्य को धारण किये रहेंगे , हे राजिया ! उनके ऊपर रत्ती भर भी कभी विपत्ति की आंच नही आयेगी |

6 Responses to "राजिया रा सौरठा -6"

  1. सभी सोरठों में गंभीर सीख है। फिर भी जो सब से अच्छा लगा…

    चालै जठै चलंन, अण चलियां आवै नही |
    दुनियां मे दरसंत, रीस सूं लोचन राजिया ||
    सचाई कह दी गई है।

    Reply
  2. mehek   March 12, 2009 at 3:28 am

    सांम धरम धर साच , चाकर जेही चालसी |
    ऊनीं ज्यांनै आंच, रती न आवै राजिया ||
    sacchhi baat hai.

    Reply
  3. रंजन   March 12, 2009 at 3:34 am

    बहुत उत्तम.. अब तो ्काफी ्दोहे इंटरनेट पर आ गये.. आपकी मेहनत से..”राजिया रा दोहा” search करते ही gyandarpan आने लगा गुगल पर बधाई..

    Reply
  4. नरेश सिह राठौङ   March 12, 2009 at 1:17 pm

    बहुत अच्छा संग्रह बन पडा है । आपकी इस मेहनत से राजस्थान को ही नही वरन विश्व को भी फ़ायदा पहूंचेगा । धन्यवाद ।

    Reply
  5. राज भाटिय़ा   March 12, 2009 at 5:10 pm

    बहुत ही सुंदर लगे आप के यह सोरठों, ओर उस से सुंदर लगे इन के अर्थ, बहुत बहुत धन्यवाद

    Reply
  6. विष्णु बैरागी   March 13, 2009 at 11:20 pm

    पुराने लोगों ने ‘सुराज’ की कल्‍पना कितनी सटीक की थी, यह आपके द्वारा प्रस्‍तुत इस सोरठे से सहज ही अनुभव होती है-

    सबळा संपट पाट, करता नह राखै कसर |
    निबळां एक निराट , राज तणौ बळ राजिया ||

    आज तो ‘राज’ भी ‘सबळा’ का साथ देने लगा है ‘निबळों’ का रखवाला राम ही रह गया है।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.