ये रानी जाती थी नित्य दलित के घर होने वाले सत्संग में

 ये रानी जाती थी नित्य दलित के घर होने वाले सत्संग में

आजादी के बाद से ही दलितों के साथ छुआछूत को लेकर स्वर्ण जातियां निशाने पर है| पर जब इतिहास उठाकर देखते है तो पता चलता है कि छुआछूत को लेकर जो आरोप लगाए जा रहे है वो सच कम, दुष्प्रचार अधिक है| इतिहास में ऐसे कई प्रसंग मिलेंगे जो साबित करते है कि उस काल छुआछूत नहीं के बराबर थी| ऐसा ही एक उदाहरण है मालाणी राज्य की रानी का | जी हाँ ! पश्चिमी राजस्थान में स्थित तत्कालीन मालाणी राज्य की रानी रूपांदे अपने ही राज्य के एक दलित के घर में होने वाले सत्संगों में भाग लेती थी|

मालानी के शासक रावल मल्लीनाथ जी की रानी रूपांदे बचपन से ही अत्यंत धार्मिक प्रवृति की महिला थी| विवाह के बाद रानी रूपांदे अपने राज्य की राजधानी महेवा में होने वाले साधू-संतों के सत्संगों में सदैव हिस्सा लेती थी| उनकी राजधानी में धारु नाम का एक मेघवाल जाति का दलित रहता था, जो साधू-संतों के साथ रहकर खुद भी ज्ञानी संत हो गया था| उसके घर साधू-संतों के आगमन पर जागरण होते रहते थे| इन्हीं जागरणों में रानी रूपांदे धारु मेघवाल के घर आकर भाग लेती थी| यदि उस वक्त दलितों के साथ छुआछूत होती और रानी एक दलित को छोटा व्यक्ति समझती तो क्या उसका वहां आना संभव था| आपको बता दें यदि रानी चाहती तो उनके राज्य में आने वाले साधू-संत उसके महल में आकर भी जागरण व सत्संग कर सकते थे|

पर रानी रूपांदे के मन में कभी यह विचार नहीं आया कि धारू मेघवाल छोटी जाति का है अत: उसके घर नहीं आना चाहिए| ज्ञात हो रानी ने धारू मेघवाल को अपना गुरुभाई बना लिया था| आपको बता दें मालानी आँचल में आज भी रानी रूपांदे की देवी के रूप में व उनके पति व मालानी के शासक रावल मल्लीनाथ की लोकदेवता के रूप में पूजा होती है, लेकिन परम्परा है कि इन दोनों की पूजा से पहले दलित धारु मेघवाल की पूजा होगी| जिस काल को लेकर दुष्प्रचार किया जाता है कि – दलितों का मंदिर में प्रवेश वर्जित था, उनके साथ छुआछूत होती थी| उसी काल की एक रानी का एक दलित के घर आना जाना था और उसी काल में उस दलित धारु मेघवाल का मंदिर भी बना| यदि दुष्प्रचार सही होता तो रानी का दलित के घर आना-जाना व दलित का मंदिर बनना क्या संभव होता ?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.