यहाँ के वीरों के आगे भी भागी थी हुमायूँ की सेना

मुग़ल शासकों ने भारत में अपने राज्य की जड़ें ज़माने व उसे मजबूत करने के उद्देश्य से हर छोटे-बड़े राज्य को अधीन करने के लिए सेनाएं भेजी| इसी श्रंखला में हुमायूँ की नजर राव शेखाजी द्ववारा स्थापित नवराज्य शेखावाटी पर पड़ी| हुमायूँ ने शेखावाटी के शासक राव रायमल जी के अपने सन्देश वाहक भेजकर कहलाया कि- “उसकी चाकरी करो और बादशाह से मिलो|”  जोधपुर के राजा जसवंतसिंह के दीवान रहे फौजचंद भंडारी ने किसी पुराणी ख्यात की नक़ल की थी, उस ख्यात में यह घटना दर्ज है| ख्यात के अनुसार- राव रायमल जी के बड़े भाई दुर्गाजी के पुत्र जैता जी ने इन सन्देश वाहकों को बादशाह के नाम यह सन्देश देकर टरका दिया कि- “हमारे पास कोई बड़ा देश नहीं है, फिर भी बादशाह कहेंगे वैसा कर लेंगे|”

बादशाह समझ गया कि शेखावाटी के ये स्वाभिमानी वीर आसानी से अधीनता स्वीकार नहीं करेंगे, अत: उसने मुग़ल महाबेग को दस हजार घुड़सवारों के साथ शेखावटी के शेखावतों को रोंद कर अधीनता स्वीकार करने भेजा| महाबेग ने फिर राव रायमल जी को कहलाया कि बादशाह की चाकरी करो, नहीं तो तुम्हारा देश उजाड़ दिया जायेगा| राव रायमल जी ने सभी स्वजातियों से सलाह कर फैसला करने का समय माँगा ताकि समय पाकर सैन्यबल एकत्र किया जा सके| राव रायमल जी ने एक तरफ वार्ता जारी रखी, दूसरी तरफ सैन्य सहायता के लिए घुड़सवारों को चारों और भेज दिया| शीघ्र ही शेखावत वीर युद्ध के लिए एकत्र हो गए और मुग़ल महाबेग पर अचानक आक्रमण कर दिया|

अचानक हमले में मुग़ल सेना के 200 सैनिक मारे गए और महाबेग भाग खड़ा हुआ| इस हार के बाद हुमायूँ ने मेवात से अपने भाई हिंदाल को सेना देकर भेजा| 1533 ई. में हिंदाल ने राव रायमल के शिखरगढ़ को घेर लिया| रायमल को इस संभावित हमले का शायद अंदेशा था अत: किले में युद्ध सामग्री पहले से एकत्र की जा चुकी थी| बड़ी सेना का मुकाबला का करने के लिए आमेर सहायता का सन्देश भेज दिया गया| आमेर के राजा चन्द्रसेन जी ने अपने कुंवर कुम्भा जी के नेतृत्व में सेना भेजी| दोनों पक्षों के मध्य युद्ध हुआ| कुंवर कुम्भा जी अप्रत्याशित वीरता का प्रदर्शन करते हुए शहीद हो गए| हिंदाल को पराजित होकर भागना पड़ा|

सन्दर्भ : शेखावाटी प्रदेश का राजनैतिक इतिहास; रघुनाथसिंह कालीपहाड़ी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.