39.5 C
Rajasthan
Friday, May 27, 2022

Buy now

spot_img

मेरे नगमें मेरी नज्में

वोह सुनहरी दोपहर, वोह छुक छुक चलती गाड़ी का रुक रुक कर चलना
तुम्हारी प्यारी सी उंगलियों से लिखे संदेशे का मेरे फ़ोन पर सवाल भेजना

तुम क्या सोचते हो मै तुम्हारी, उन बेताबियों की दोपहर को भूल चुकी हूँ
तुम क्या जाने मेरे हसीन साथी, तेरी खुबसूरत शाम को गीतों में ढाल चुकी हूँ

बज उठेंगे वीणा के तार तार महक जायेगा सारा आलम फिर कोई किसी के प्यार में
मेरी नज्मो में सुनेगा तेरा नाम सारा जहान खिल उठेंगे मुरझाये फूल भी वादियों में

मैं वो गीत हूँ जो आज तक कोई कवि अपनी रचना में ना रच सका
मैं वो अधखिला फुल हूँ जो कभी बहारों के आने पर भी ना खिल सका

आकर तुमसे दूर न खबर है तन बदन की, ना होश है मुझे अपने उड़ते दामन का
जुबान खामोश है, रात की स्याही से, ले कलम लिखती हूँ गीत कोई तेरे नाम का

लेखिका : कमलेश चौहान ( गौरी)
कापी राईट @ कमलेश चौहान ( गौरी)

Related Articles

12 COMMENTS

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति…!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार (11-06-2013) के "चलता जब मैं थक जाता हुँ" (चर्चा मंच-अंकः1272) पर भी होगी!
    सादर…!
    शायद बहन राजेश कुमारी जी व्यस्त होंगी इसलिए मंगलवार की चर्चा मैंने ही लगाई है।
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

  2. Abhaar Aap Sb Ka Jab Bhagwan Mujhe Avsar Denge Ratan Shekhwat ji aur apke Ashirvad Lene Ham Jaipur Mai avshay Aynge. Mai asmaan Ka Ek Woh Tara Hu Jisko aap sb ki Duvayo ki Avshkta Hai..

  3. मैं वो गीत हूँ जो आज तक कोई कवि अपनी रचना में ना रच सका
    मैं वो अधखिला फुल हूँ जो कभी बहारों के आने पर भी ना खिल सका
    ……bahoot khub

  4. बहुत ही सुन्दर जानकारी दी हे आपने !
    इन्टरनेट और कंप्यूटर दुनिया की रोचक जानकारियाँ, टिप्स और ट्रिक्स, वेबसाइट, ब्लॉग, मोबाइल ट्रिक्स, सॉफ्टवेयर, सफलता के मंत्र, और अच्छी बाते पडने के लिए मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत हे ! अगर मेरा ब्लॉग अच्छा लगे तो अपने विचार दे और इस ब्लॉग से जुड़े ! अगर मेरे ब्लॉग में किसी भी प्रकार की कमी हो तो मुझे जरुर बताये !
    मेरे ब्लॉग पर आने के लिए निचे क्लिक करे !
    internet and pc releted tips

  5. Mai aap Dbse Request Krti Hu Ki I respect Ratan Shekhwaat again Lkin Kuch Log Jab meri Kavita Ki charcha karte hai ya apne News paper me Pring Krte hai to Woh Bhule Se Ratan Shekhwat Ki tasvir aur Nam Ka credit de dete hai. Issase ek kavi ke dil ko Thes Pahunchati hai. Please Make sure My Name is There.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Stay Connected

0FansLike
3,333FollowersFollow
19,700SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles