माँ थारी लाडी नै, तूं लागै घणी प्यारी

एक बेटी के मन की आवाज माँ के लिए

माँ थारी लाडी नै, तूं लागै घणी प्यारी |
सगळा रिश्तां में, माँ तूं है सै सूं न्यारी निरवाळी ||

नौ महीना गरभ मै राखी, सही घणी तूं पीड़ा |

ना आबा द्यूं अब, कोई दुखड़ा थारै नेड़ा ||

तूं ही माँ म्हनै हिंडायो, चौक तिबारा में पालणों |

माँ तूं ही सिखायो म्हनै, अंगणिया में चालणों ||

सोरी घणी आवै निंदड़ळी, माँ थारी गोदी मै |

इतराती चालूं मैं पकड़ नै, माँ थारी चुन्दड़ी का पल्ला नै ||

हुई अठरा बरस की लाडी, करयो थै म्हरो सिंणगार |

मथी भेजो म्हनै सासरिये, थां बिन कियां पड़ेली पार ||

मथी करज्यो थै कोई चिंता, संस्कारी ज्ञान दियो थै मोकळो |
म्हूं थारी ही परछाई हूँ, ना आबा द्यूं ला कोई थानै ओळमो ||

राजुल शेखावत

10 Responses to "माँ थारी लाडी नै, तूं लागै घणी प्यारी"

  1. lucky   September 5, 2012 at 2:54 am

    khmma ghani baisa hukum… i have read ur lines..awesme lines baisa….' this is lakshya raj singh champawat.. thank u

    Reply
  2. Pagdandi   September 5, 2012 at 2:56 am

    Bhut hi khubsurat rachna h …… sach aakhiri line m aapne wo kah diya jo har beti khana chati h ……yahi ak ollma wala riwaj ki wajh se hi shayd hamare samaj m betiyo ki shadhi ki jaldbazi rahti h

    Reply
  3. Gajendra singh shekhawat   September 5, 2012 at 12:45 pm

    बेटी के जज्बातों को बयां करती खुबसूरत शब्दों में पिरोई हुए रचना है ।

    Reply
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बृहस्पतिवार (06-09-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ…!
    अध्यापकदिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    Reply
  5. वाह! क्या बात है!!

    कृपया इसे भी देखें-

    जमाने के नख़रे उठाया करो!

    Reply
  6. वाह! क्या बात है!!

    कृपया इसे भी देखें-

    जमाने के नख़रे उठाया करो!

    Reply
  7. dheerendra   September 5, 2012 at 6:07 pm

    बेटी के जज्बातों की मोहक प्रस्तुति,,,,

    RECENT POST,तुम जो मुस्करा दो,

    Reply
  8. sawai singh   September 24, 2012 at 7:36 am

    MAA ar beti re rista ro aatmiy chitran…….. sadhuwad.

    Reply
  9. शुभकामनाएँ…यदि हिन्दी में अनुवाद कर दें तो सुमित फिर से इसे पढ़ने आएँ…:)

    Reply
  10. Rajput   May 12, 2013 at 12:11 pm

    मथी करज्यो थै कोई चिंता, संस्कारी ज्ञान दियो थै मोकळो |
    म्हूं थारी ही परछाई हूँ, ना आबा द्यूं ला कोई थानै ओळमो
    वाह ! बहुत शानदार

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.