पत्नी को ताना देना भारी पड़ गया था सारण जाट पूला को

बीकानेर की स्थापना से पहले आज के बीकानेर के आस-पास उत्तर-पूर्व के कई गांवों पर गोदारा, सारण, बेनीवाल, पूनिया आदि गोत्रों के जाटों का अधिकार था| वे कृषि के साथ अपनी सुरक्षा भी खुद ही करते थे| उन दिनों शेखसर का जाट पांडू गोदारा बड़ा दानी था| उसकी दानशीलता के चर्चे थे| एक दिन पांडू का दाडी भाड़ंग के जाट पूला सारण के यहाँ मांगने गया| पूला ने अपने सामर्थ्य अनुसार दाडी को दान दिया| दान देने के बाद जब पूला पत्नी मिल्की से मिला तो मिल्की ने पूला से कहा- “चौधरी ऐसा दान करना था, जिससे पांडू से ज्यादा यश मिलता|” पूला उस वक्त नशे में था, सो उसने मिल्की को थप्पड़ रसीद करते हुए ताना मारा कि- तुझे बूढा पांडू अच्छा लगता है तो उसी के पास चली जा| मिल्की को यह बात चुभ गई और उसने उत्तर दिया- चौधरी मैंने तो तुझे एक बात कही थी, पर यदि तेरी यही सोच है तो आज से तेरे पास आऊँ तो भाई के पास आऊँ| और मिल्की ने उसी दिन से पूला से बातचीत बंद कर दी|

मिल्की ने इस घटना का पूरा वृतांत पांडू को कहला भेजा और सन्देश भेजा कि उसे आकर ले जाए| पांडू ने अपने पुत्र नकोदर को मिल्की को लाने भाड़ंग भेजा| मिल्की अपनी जगह एक दासी को बैठाकर खुद नकोदर के साथ शेखसर चली आई| पांडू हालाँकि बूढ़ा हो चला था फिर भी बात के लिए मिल्की को रख लिया|

जब भाड़ंग में मिल्की की खोज हुई, तब पूला को दासी से पता चला कि उसकी स्त्री मिल्की पांडू के पास चली गई| तब पूला ने रायसाल व कंवरपाल आदि जाटों को बुलाया ताकि पांडू पर आक्रमण कर मिल्की को ले जाने की सजा दी जा सके| लेकिन राव बीका राठौड़ पांडू का संरक्षक था, अत: इन जाटों की पांडू जाट पर आक्रमण की हिम्मत नहीं पाई| आखिरी पूला अपने सहयोगियों को लेकर सिवाणा के जाट स्वामी नरसिंह के पास गया| नरसिंह बड़ा वीर समझा जाता था| नरसिंह को साथ लेकर पूला ने पांडू पर आक्रमण किया| पांडू भागकर राव बीका की शरण में पहुँच गया| तब बीका ने नरसिंह, पूला आदि का पीछा किया और सिधमुख के पास जा घेरा| नरसिंह सो रहा था| बीका ने उसे उठाया और ललकारा| नरसिंह ने बीका पर वार किया, पर बीका के प्रतिवार के एक झटके में ही काम आया|  नरसिंह के मरते ही सभी जाट भाग खड़े हुए और पूला, रायसल, कंवरपाल आदि जाट प्रमुख बीका के पास आये और माफ़ी मांगते हुए उसकी अधीनता स्वीकार कर ली|

इस तरह वर्षों से स्वाधीनता भोग रहे उस क्षेत्र के जाटों ने राव बीका को अपना राजा माना और उसकी प्रजा बनकर शांतिपूर्वक रहने लगे|

3 Responses to "पत्नी को ताना देना भारी पड़ गया था सारण जाट पूला को"

  1. history quiz   April 8, 2018 at 12:39 pm

    Is kahana ka source kya hai?

    Reply
    • Ratan Singh Shekhawat   April 8, 2018 at 9:59 pm

      गौरीशंकर हीराचंद ओझा का लिखा बीकानेर राज्य का इतिहास पढ़ें !

      Reply
  2. Mathtricks   August 29, 2020 at 8:20 pm

    Good

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.