जिन्हें राजपूत अपना समझते हैं वे राजपूतों की पीठ पर यूँ करते हैं वार

जिन्हें राजपूत अपना समझते हैं वे राजपूतों की पीठ पर यूँ करते हैं वार : 1947 में सत्ता हस्तांतरण के बाद राजपूत जाति राजनेताओं के निशाने पर सबसे ज्यादा रही है| राजनेताओं ने राजपूतों के खिलाफ आम जनता के मन में कटुता घोलने हेतु किस तरह दुष्प्रचार किया,  इसका एक उदाहरण हम इस लेख में प्रस्तुत करने जा रहे हैं – “दिसम्बर 2019 में पलसाना कस्बे में कांग्रेस नेता नारायणसिंह का अभिनन्दन समारोह था| कार्यक्रम में प्रदेश के मुख्यमंत्री, उप मुख्यमंत्री सहित दर्जनों कांग्रेस नेता थे| उसी आयोजन में भाजपा छोड़ कांग्रेस में शामिल हुए नेता घनश्याम तिवाड़ी भी शरीक हुए| सभी नेताओं ने नारायणसिंह जी की प्रशस्ति में काफी कुछ कहा पर राजपूत जाति पर कोई निशाना नहीं साधा|

वहीं घनश्याम तिवाड़ी ने चुपके से एक ऐसा सुर्रा छोड़ा जो समारोह में एकत्र हुए हर व्यक्ति के मन में राजपूतों के प्रति घृणा फ़ैलाने के लिए काफी था| उस आयोजन में तिवाड़ी ने कहा कि – “सामंतकाल में किसी को नाम के आगे सिंह लगाने अनुमति नहीं थी, इसलिए नारायणसिंह जी ने जिनका बचपन का नाम राम नारायण था, बदल कर नारायणसिंह रखा|” यहाँ तिवाड़ी का आशय था कि सामंत यानी राजपूत अपने अलावा किसी को नाम के आगे सिंह नहीं लगाने देते थे| जबकि उसी मंच पर नारायणसिंह जी से उम्र में ज्यादा बड़े जाट नेता व पूर्व विधायक रणमलसिंहजी भी बैठे थे, जिनका जन्म 1923 में हुआ था, जब सीकर में राव राजा कल्याणसिंह जी का शासन था|

यही नहीं, सीकर जिले में ही चौधरी जगनसिंहजी बाटड़ विधायक भी रहे हैं और आजादी के पहले से ही अपने नाम के आगे सिंह शब्द का इस्तेमाल करते थे| पूर्व विधायक रणमलसिंहजी के पिता के नाम के आगे भी सिंह शब्द जुड़ा था| जबकि उस काल सीकर में राव राजा कल्याणसिंह जी का शासन था | यदि तिवाड़ी के कथन में थोड़ी सी भी सच्चाई होती तो पूर्व विधायक रणमलसिंहजी व जगनसिंहजी बाटड़ के नाम के आगे सिंह नहीं होता| जबकि ये दोनों परिवार सीकर के राव राजा से प्रत्यक्ष जुड़े थे, उन्हें तो राव राजा ने सिंह लगाने से नहीं टोका| पर घनश्याम तिवाड़ी ने भरी सभा में एक ऐसा वक्तव्य देकर वहां उपस्थित जाटों के मन में राजपूतों के प्रति घृणा का भाव भर दिया| जबकि तिवाड़ी ने भाजपा टिकट पर जितने भी चुनाव लड़े है उनमें राजपूतों ने उन्हें अपना समझकर वोट दिए और उन्हें राजनैतिक ऊँचाइयों पर पहुँचाया| हाँ इसी कार्यक्रम में सचिन पायलट ने अपने भाषण में नाम के साथ सिंह का तात्पर्य समझाते हुए तिवाड़ी के दुष्प्रचार का प्रभाव कम किया|

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.