जिन्दगी क्या है ?

जिन्दगी क्या है ?


हरिकृष्ण लाल सचदेव

हठीलो राजस्थान-14 |
हरयाणवी ताऊनामा
मेरी शेखावाटी

15 Responses to "जिन्दगी क्या है ?"

  1. ललित शर्मा   September 24, 2010 at 12:50 am

    Sundar gazal ke liye aabhar

    Reply
  2. Akhtar Khan Akela   September 24, 2010 at 12:52 am

    bhaayi vah bhut hupe rustm hen zindgi kaa aek flsfaa yeh bhi he hmne bhi dekhaa he mubark ho. akhtar khan akela kota rajsthaan

    Reply
  3. Uncle   September 24, 2010 at 1:52 am

    Nice

    Reply
  4. chitrkar   September 24, 2010 at 1:54 am

    Bahut khub

    Reply
  5. Priya   September 24, 2010 at 3:37 am

    बहुत सुन्दर

    क्या आप मुझे बता सकते है की ब्लॉग के सरे पोस्ट को एक ही लाइन में केसे दिखाए जेसे आपने अपने ब्लॉग में लगाया हुवा है

    https://www.gyandarpan.com/2009/01/blog-post_6759.html

    मेने आपका ये लेख भी देखा पर ब्लॉग के सारे पोस्ट एक लाइन में नहीं आ पा रहे है

    https://www.gyandarpan.com/2009/11/table-of-content.html

    Reply
  6. नरेश सिह राठौड़   September 24, 2010 at 5:12 am

    बहुत बढ़िया कविता है |

    Reply
  7. sada   September 24, 2010 at 5:39 am

    बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द, गहरे भाव ।

    Reply
  8. ताऊ रामपुरिया   September 24, 2010 at 6:27 am

    बहुत सुंदर.

    रामराम.

    Reply
  9. प्रवीण पाण्डेय   September 24, 2010 at 7:49 am

    दमदार अन्दाज़।

    Reply
  10. वीना   September 24, 2010 at 12:01 pm

    क्या कहूं…लाजवाब….

    Reply
  11. H.K.L. Sachdeva   September 24, 2010 at 6:10 pm

    मित्रो,

    मुझे प्रोत्साहित करने के लिए आप सब का बहुत बहुत धन्यवाद|

    हरिकृष्ण लाल सचदेव

    Reply
  12. राज भाटिय़ा   September 24, 2010 at 6:51 pm

    बहुत सुंदर रचना, धन्यवाद

    Reply
  13. Udan Tashtari   September 25, 2010 at 12:26 am

    हरिकृष्ण लाल सचदेव जी की बेहतरीन रचना पढ़कर अच्छा लगा. आपका आभार.

    Reply
  14. Pagdandi   September 25, 2010 at 10:45 am

    bhut khub andaz h

    Reply
  15. बहुत ही बढ़िया ……..

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.