जन्मी, अजन्मी इन्सानी दास्तां

जन्मी, अजन्मी इन्सानी दास्तां
मैया मेरी, मेहरबानिया तेरी, ससांर मुझे भी दिखाना ।
मेरा जीवन नहीं छीनना, तू नारी का धर्म निभाना ।।

तुझे घाेर पाप लगेगा मैया, मत पाप में शामिल हाेना ।
देख, मैं अजन्मी कन्या हुं, दामन ममता का फैलाना ।।

खुशियाें का गला ना घाेटना, कन्या काे दुध पिलाना ।
मासूम ने क्या बिगाडा़ हैं, मुझे क्याें चाहते हाे मारना ।।

तेरे किलकारी गुंजेगी अंगना, ना खून से हाथाे काे रंगना ।
राे राे के यह है मेरा कहना, ना उजाडाे़ मेरा आशियाना।।

चिल्ला चिल्लाकर बाेलती हुं, मेरा निवेदन मां स्वीकारना ।
मुझे तेरे आंचल में ही रहना, देखमुझे गड्ढे़ में नहीं धकेलना ।

घुट घुट कर जी घबराना, ना तन बदन मेरा तड़पाना ।
मुझे पैदा हाेने से पहले, मत फांसी पर लटकाना ।।

‘महेन्द्र’ मै भारत का भविष्य हुं, भविष्य की मां काे बचाना ।
मेरी माैत का मातम क्याें नहीं, बताआे यह कैसा हैं जमाना ।।

र्निदयी हाथाे से काटाे ना, डॉक्टर नन्हे नन्हे नाक नैयना ।
तु थाेडा़ भगवान से डरना, मां मुझे गर्व से पैदा करना ।

मै तेरे भराेसे मां, तू मेरी रक्षा करना ।
( तुतलाते हुए)
मै तेले भलाेछे मां, तू मेली लछा करना ।।

दाेस्ताे मेरी इस कविता काे दुनिया के हर भाई बहन ओर मिलने वाले के पास पहुंचा दाे, यदि आपके आंखाे मे दाे बुंद आंसू आ गये ताे समझाे कविता लिखना सार्थक हाे गया |

जय हिन्द जय भारत

कवि महेन्द्र सिंह राठौड़ “जाखली”
जिला नागाेैर (राजस्थान)
माेबाईल नंबर 9928007861

Leave a Reply

Your email address will not be published.