गूगल केच से पायें खोया ब्लॉग विजेट

गूगल केच से पायें खोया ब्लॉग विजेट

पिछले दिनों ज्ञान दर्पण की साजसज्जा के लिए कई सारे टेम्प्लेट बदले गए ,टेम्पलेट की इसी अदला बदली में ब्लॉग पर लगे कई विजेट डिलीट हो गए जिनमे चिट्ठाजगत का सक्रियता क्रमांक वाला कोड भी शामिल था | पर चूँकि चिट्ठाजगत की सेवाएँ बंद थी सो सक्रियता क्रमांक दिखाने वाले विजेट का कोड वापस मिलने का कोई दूसरा रास्ता भी नजर नहीं आ रहा था और चिट्ठाजगत की सेवाओं के बंद के चलते उसकी जरुरत भी महसूस नहीं हुई | पर पिछले कई दिनों से चिट्ठाजगत का सक्रियता क्रमांक वापस चिट्ठों पर नजर आने लगा तो ज्ञान दर्पण भी चिट्ठाजगत सक्रियता क्रमांक कोड लगाने की जरुरत महसूस हुई पर चिट्ठाजगत के बंद के चलते कोड कैसे प्राप्त किया जाय दिमाग में यही उधेड़बुन चल थी कि अचानक गूगल बाबा की केच सुविधा का ख्याल आया कि काश गूगल बाबा ज्ञान दर्पण का कोई पुराना केच दिखादे जिस पर चिट्ठाजगत का सक्रियता क्रमांक वाला कोड लगा हो |
इसी उम्मीद से जैसे गूगल सर्च में cache:gyandarpan.com सर्च किया गूगल बाबा ने एक पुराना केच दिखा दिया पर वह भी कुछ दिन पहले का ही था और उस पर वह विजेट नहीं था, इसलिए दुबारा गूगल पर site:gyandarpan.com लिख कर तलाश किया तो कई सारे परिणाम मिले जिनमे एक पुराने तलाश परिणाम पर चटका लगाया तो ज्ञान दर्पण के पुराने टेम्पलेट वाला केच खुल गया जिस पर सक्रियता क्रमांक वाला विजेट था |

हमने तुरंत फायरफोक्स को पेज के सोर्स कोड दिखाने को कहा और फायरफोक्स द्वारा दिखाए कोड में हमने चिट्ठाजगत का सक्रियता क्रमांक दिखाने वाला कोड तलाश कर उसकी तुरंत नक़ल कर ज्ञान दर्पण की बगल पट्टी में चिपका दी |
इस तरह गूगल बाबा की केच सुविधा का फायदा उठाते हुए हमने अपने ब्लॉग का खोया विजेट हासिल कर लिया ,कभी आपको भी जरुरत पड़ जाये तो आप भी एसा कर अपना खोया विजेट पा सकते है |

5 Responses to "गूगल केच से पायें खोया ब्लॉग विजेट"

  1. Udan Tashtari   February 19, 2011 at 2:45 am

    काम बन गया..बस, और क्या चाहिये.

    Reply
  2. नरेश सिह राठौड़   February 19, 2011 at 4:47 am

    बहुत बढ़िया जानकारी दी है | मै तो हमेशा अपने विजेट कोड का बैकअप नोटपैड में रखता हूँ | भविष्य में जब भी जरू़त हो तो काम में ले लेता हूँ |

    Reply
  3. अन्तर सोहिल   February 19, 2011 at 6:43 am

    काम की जानकारी है जी, धन्यवाद

    Reply
  4. PADMSINGH   March 30, 2011 at 3:23 am

    हम्म… नेट अनंत नेट कथा अनंता … 🙂

    Reply
  5. blogtaknik   April 4, 2011 at 7:21 am

    अच्छी जानकारी भविष्य में जरुर काम आएगी धन्यवाद

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.