कुछ किस्से गांव के भोले भाले ताऊओं के

ताऊ लोग हर क्षेत्र में मिलेंगे कुछ ताऊ तेज तर्रार होते है कुछ बड़े भोले भाले | गांवों में अक्सर ऐसे भोले भाले ताऊ अपनी हरकतों व कार्यकलापों से गांव वासियों की ठिठोली व मजाक के पात्र बनते रहते है और इस हंसी ठिठोली का खुद भी गांव वालों के साथ भरपूर लुफ्त उठाते है | पेश है ऐसे ही कुछ ताऊओं के कुछ असली किस्से |
सारी कमाई तो मै कर ल्याया अब आसाम में क्या रखा है : ताऊ
मेरे पडोसी गांव राजपुरा के कुछ लड़के बस पकड़ने के लिए गांव से ३ की. मी. दूर मुख्य सड़क पर बने बस स्टैंड की और आ रहे थे उनमे से कुछ को रोजगार के लिए आसाम जाना था तो कुछ उन्हें बस स्टैंड तक छोड़ने के लिए साथ आ रहे थे | रास्ते में उन्हें उनके ही गांव का एक ताऊ मिला जो आसाम में नौकरी से छुट्टी लेकर वापस गांव जा रहा था | लड़कों के पास आने और यथा अभिवादन करने के बाद ताऊ ने उन्हें आशीर्वाद देते हुए पूछा :-
ताऊ :- अरे ! आज ये सामान उठाकर कहाँ जा रहे हो बच्चो |
एक लड़का :- ताऊ श्री ! हम कमाई करने के लिए आसाम जा रहे है |
ताऊ :- अरे बावली बूचो ! अब आसाम में क्या रखा है ? वहां तो जितनी कमाई थी वो सारी तुम्हारा ये ताऊ कर लाया |
( राजपुरा के ये ताऊ बहुत भोले इंसान थे आसाम से जो कुछ कमा कर लाये उसके बारे में समझ रहे थे कि आसाम में तो बस इतना ही था जो वह ले आये | इन ताऊ जी के कई असली किस्से उसी गांव के पदम सिंह जी जो कालेज में हमारे वरिष्ठ थे अक्सर सुनाते रहते थे | उन्ही किस्सों में एक था ऊपर लिखे किस्से ) उन्ही ताऊ का एक और असली किस्सा
उसने एक तोडा मै दो तोडूंगा
ताऊ कुँए से पानी के दो मटके कंधो पर रखकर घर ला रहे थे , रास्ते में किसी का एक टुटा मटका पड़ा था जिसे देख ताऊ रुके और पास खड़े लोगो से पूछा – ये रास्ते में मटका किसने तोड़ दिया | वहां खड़े लोगों में से एक ने ताऊ को बताया कि यह मटका तो आप ही के परिवार की एक दरोगी (दासी ) से टूट गया |
यह सुनते हुए ताऊ ने आव देखा न ताव और अपने कन्धों पर रखे दोनों मटके गिराकर तोड़ दिए और बोले :- दरोगी एक मटका तोड़ सकती है मै दो क्यों नहीं ?
अल्ला वल्ला कुछ नहीं करेगा माई अब तो ऊपर वाले को याद कर
घटना लगभग पच्चीस साल पुरानी है ताऊ जय किशन जी हमारे गांव में डाकिया का काम करते थे गर्मियों का मौसम था अतः गांव की डाक बड़े पोस्ट ऑफिस खूड में जमा कराने के लिए जाने हेतु आज डाकिया ताऊ पैदल न जाकर बस स्टैंड पर बस का इन्तजार कर रहे थे कि बस स्टैंड से कुछ ही दूर अचानक एक जोंगा गाड़ी सड़क से नीचे उतर एक बड़े खेजडी के पेड़ से जा टकराई | टक्कर इतनी जोरदार थी कि टक्कर के बाद पेड़ के सभी डाल टूट कर जोंगा गाड़ी के ऊपर गिर गए | यह दुर्घटना देख बस स्टैंड पर डाकिया ताऊ जय किशन जी के साथ बैठे सभी लोग मदद के लिए दौड़ पड़े और घायलों को गाड़ी के अन्दर से निकलने लगे जिनमे अधिकतर की मृत्यु हो चुकी थी कुछ की हालत गंभीर थी सभी लोग हमारे पास के एक कस्बे के एक मुस्लिम परिवार के लोग थे | उनके साथ एक बुजुर्ग महिला भी जिसे दुर्घटना में कोई चोट नहीं आई लेकिन अपने बेटों पोतों को घायल देख बुढिया ने छाती पीट-पीट कर अल्लाह अल्लाह कहते हुए विलाप करना शुरू दिया जो स्वाभाविक भी था , अन्य सभी लोग घायलों की मदद में लगे थे और किसी ने ताऊ जय किशन जी को बुढिया को सांत्वना देकर समझाने को कहा | बुढिया का विलाप सुन ताऊ जय किशन जी उसे सांत्वना के साथ शांत करने की कोशिश करते हुए समझाने के उद्देश्य से कहने लगे –
ताऊ जय किशन जी :- अरे माई ! जो होना था सो हो गया अब रोने पीटने से क्या होगा और अब अल्लाह वल्लाह कुछ नहीं कर पायेगा बस तू तो ऊपर वाले को याद कर वही सब ठीक कर देगा |

अब ताऊ जय किशन जी तो ठहरे ताऊ उन्होंने यह तो सोचा ही नहीं कि बेचारी बुढिया तो अल्लाह के रूप में ऊपर वाले को ही याद कर रही है |
आज ताऊ जय किशन जी बूढे हो चुके है पर अक्सर चौपाल पर उनके आते ही कभी न कभी कोई न कोई ताऊ के साथ ठिठोली करने के लिए इस घटना की चर्चा छेड़ देते है और ताऊ खुद भी इस ठिठोली का भरपूर मजा लेते है कभी नाराज नहीं होते |

14 Responses to "कुछ किस्से गांव के भोले भाले ताऊओं के"

  1. lalit sharma   October 8, 2009 at 4:10 pm

    वाह ताऊ जी वाह कदे तो म्हारा भी लम्बर आवेगा ताऊ बणन का
    तो म्हारे भी किस्से टाबर सुणावेंगे,भोत बढिया किस्सा सुणाया रतनसिंग जी,ताऊ के नाम से ही धरती की खश्बु आण लाग जाये सै, आगले किस्से का इन्तजार सै,राम-राम

    Reply
  2. ऐसे ताऊ सभी जगह देखने को मिल जाते हैं।

    Reply
  3. P.N. Subramanian   October 8, 2009 at 4:35 pm

    हमें तो लगता है की हर कोई कभी न कभी तो ताऊ बन ही जाता है.मजा आ गया. आभार.

    Reply
  4. खुशदीप सहगल   October 8, 2009 at 6:38 pm

    ताऊ की महिमा अपरम्पार…
    भतीजों से करे घणा प्यार…

    जय हिंद

    Reply
  5. राज भाटिय़ा   October 8, 2009 at 6:45 pm

    सच मै ऎसे लोग दिल के साफ़ होते है, बहुत अच्छा लगा,

    Reply
  6. HEY PRABHU YEH TERA PATH   October 8, 2009 at 7:22 pm

    ताऊ महाराज का ही सभी जगह राज है. जय हो ताऊजी …………की

    Reply
  7. कुन्नू सिंह   October 8, 2009 at 8:12 pm

    मेरे गांव मे एक दो ताऊ हैं पर बहुत बढीया ताऊ हैं

    रतन जि, आउटो ब्लागींग से भी हिन्दी ब्लागर एग्रीगेटर बन सकता है

    और उसमे फिल्टर भी कर सकते हैं जैसे आपने उसमे ईंगलीस के वर्ड ब्लैक लिस्ट मे डाल दिये तो उस नाम के पोस्ट को वो नही प्रकाशीत करेगा|

    ईसी पर एक्स्पेरीमेंट करने के लिये सोच रहा हूं 🙂

    Reply
  8. Udan Tashtari   October 8, 2009 at 10:31 pm

    ताऊ भी कितना बोला है…जरुर अपना वाला होगा-अरे, वही रामप्यारी वाला. मन्ने तो पक्का डाउट उसी का है. 🙂

    मजेदार.

    Reply
  9. ताऊ रामपुरिया   October 9, 2009 at 6:48 am

    वाह जी, बहुत मजेदार किस्से शुरु किये आपने.

    रामराम.

    Reply
  10. गावों में आज भी ऎसे भोले भाले ताऊ बहुत मिल जाते हैं…..जब कि शहरी आबोहवा में तो अपने वाले "ताऊ" जैसे ही मिलेंगें:)

    Reply
  11. शरद कोकास   October 9, 2009 at 5:47 pm

    ऐसे ताउ तो हर जगह है ।

    Reply
  12. नरेश सिह राठौङ   October 10, 2009 at 1:43 am

    गांव की मजेदार बाते बताई इसके लिये आभार । आपके गांव आकर इन ताऊ लोगो से एक बार मिलना पडेगा ।

    Reply
  13. काजल कुमार Kajal Kumar   November 18, 2012 at 4:48 am

    सही है 🙂

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.