काश कोई …….

उलझे केशों सी जिंदगी मेरी ,
कोई अपनी उंगलियों से कंघी कर दे,
फिर देखो लहराऊं मैं कैसे …….
सुखी झाड़ी की जड़ों सी मैं
कोई इनमे कुछ अपने आंसू रो ले ,
फिर देखो खिल आऊं मैं कैसे …….
रीती गागर सी पड़ी मैं ,
कोई मेघ एक बरस जाये
फिर देखो छलक आऊं मैं कैसे ………..
बैठी जिन्दगी के किनारे मैं सिमटी सी ,
कोई अपनी उतरन दे दे फिर देखो निखर आऊं मैं कैसे ……..
बंधी खुशियों की गठरी सी बस कोई एक गांठ खोल दे ,
फिर देखो बिखर आऊं मैं कैसे …………..

केसर क्यारी …उषा राठौड़

असिस्टेंट कमान्डेंट राज्यश्री राठौड़ :राजस्थान की पहली महिला पायलट
ब्लोगिंग के दुश्मन चार इनसे बचना मुश्किल यार
ताऊ टीवी का "पति पीटो रियलिटी शो"

23 Responses to "काश कोई ……."

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.